Feeds:
Posts
Comments

Posts Tagged ‘थर्ड पार्टी’

Rama has been lost who had walked on this earth in flesh and blood Part-6

खो गये है हाड मांसके बने राम (भाग-)

 

राजाराम

रामके लिये हम “राजाराम” ऐसा शब्द प्रयोग करते है. इसका कारण भी है और एक संदेश भी है. राम भी तो एक चक्रवर्ती राजा थे. तो भी हम उनको “चक्रवर्ती” राम ऐसा कहेते नहीं है. जो राज्य को चलाता है वह राजा है. राजकर्ताओमें चक्रवर्ती राजा भी आ जाता है. रामने जिस तरह राज कीया और जो प्रणालीयां चलाई वो उस समय आदर्श मानी जाती थी और बादमें भी मानी जाती होगी इस लिये हरहमेश राम एक आदर्श राजा रहे और इस लिये वे पूजनीय भी बने.

आदर्श राजा की परिभाषा क्या है?

जो राजा प्रस्थापित प्रणालीयोंका पालन करावे और स्वयं भी प्रस्थापित प्रणालीयोंका पालन करे और ऐसा करनेमें वह जरा भी शंकास्पद व्यवहार न करे उसको आदर्श राजा कहा जाता है.

प्रणाली क्या होता है?

समाजमें व्यक्तिओंका व्यवहार प्रणालीयोंके आधार पर है. नीति नियमोंका पालन भी प्रणालीके अंतर्गत आता है. अलग अलग जुथोंका व्यक्तिओंका कारोबार भी प्रणालीके अंतर्गत आता है. कर्म कांड और पूजा अर्चना भी प्रणालीके अंतरर्गत आते है.

 

राजा को भी अपने लिये जो परापूर्वसे जो आदर्श मानी गयी है उन्ही प्रणालीयोंका हृदयसे पालन करना होता है. राजा नयी प्रणाली / प्रणालीयोंकी स्थापना कर सकता नहीं है. यह उसका अधिकार भी नहीं है.

 

रामने रावणको तो हरा दिया और उसके भाई विभिषणको उसका राज्य दे दिया. क्यों कि राजा का धर्म है पुरस्कार देना. यह आदर्श माना गया है. ऐसा भी एक पाठ है कि विभिषण जब रावणको छोड कर राम के पास रामको मदद करनेके लिये आया तो रामने मददके बदलेमें लंकाकी राजगद्दीका आश्वासन दिया था तना ही नहीं, लेकिन उसका राज्याभिषेक भी कर दिया था. इसको रामकी मुत्सदिता कहो या कुछ भी कहो. लेकिन उन्होने विभिषणके पास पूरी पारदर्शिता रखी थी. इस प्रकार दोनो एक दुसरेके लिये वचन बद्ध हो गये थे.

 

सीता मुक्त हो गयी. रामने एक राजा की प्रतिष्ठा पुनः स्थापित की

लेकिन सीता, अपने हरणके बाद, तो लंकामें रावण के अधिकारमें थी. यह बात सही है कि, रावणने सीताको अपने महलमें नहीं रखा था. इसके साक्षी हनुमान थे. लेकिन हनुमान तो रामके दूत और सलाहकार थे और रामसे अभिभूत थे. उनका कहेना कैसे मान लिया जाय? राजा या कोई भी पुरुष कभी पराये पुरुषके घर गई और ठहरी अपनी स्त्री को पवित्र मान सकता नहीं है. पर पुरुषके घर ठहरी स्त्रीको पवित्र कैसे माना जाय? 

तो क्या किया जाय?

सीता को अपनी पवित्रता सिद्ध करनी चाहिये?

तो पवित्रता सिद्ध करनेके लिये क्या प्रणाली थी?

अग्नि परीक्षा.

 

अग्नि परीक्षा क्या है?

चिता-प्रवेष. या अंगारों पर चलना.

चिता-प्रवेश करके बिना जले वापस आना एक चमत्कार है. हम चमत्कारोंमे मानते नहीं है. लेकिन आज भी कई लोग अंगारोंके उपर चलके दिखाते है.

अग्नि परीक्षा का एक विशेष अर्थ यह भी है कि मानसिकता की परीक्षा. जैसे कि “यक्ष प्रश्न” एक ऐसा प्रश्न है कि या तो उसका उत्तर ढूंढो या तो खतम हो जाओ.

“२००१ में भूकंप पीडित गुजरातको बाहर निकालके प्रगतिके पथ पर लाना” या तो “२००२ के गुजरातके दंगेके कारण विचलित गरिमाको पुनःस्थापित करना” नरेन्द्र मोदीके लिये अग्निपरीक्षा थी. और “भ्रष्टाचारको कैसे खतम किया जाय” यह देशका यक्ष प्रश्न है.

 

सीताने तत्कालिन प्रचलित अग्निपरीक्षा पास की. रामने सीताका स्विकार किया.

राम, सीता लक्ष्मण और हनुमान अपने साथीयोंके साथ अयोध्या आये. भरत भी प्रस्थापित प्रणालीयोंमें मानने वाला शासक था, उसने रामको अयोध्या की राजगद्दी दे दी.

 

राम भली भांति राज करने लगे.

एक ऐसा भी पाठ है कि इस रामके अच्छे गुणोंकी और पराक्रमोंकी अतिप्रशंसा तो होती ही थी, लेकिन उसमें एक और बात भी चलती थी कि, परपुरुष के घर रही हुई सीता को रामने कैसे अपनाया?

परपुरुषके घर पर रही हुई स्त्री पवित्र होती है?

आजकी मान्यता क्या है?

 

अगर एक स्त्री और एक पुरुष एक घरमें एक साथ रहते है तो स्त्रीको पवित्र मानी जाती है? ( पवित्रताके बारेमें स्त्री और पुरुष दोनोंको समझ लो).

एक पुरुष और एक स्त्री अगर अकेले एक घरमें रहते है तो उनमें शारीरिक संबंध नहीं हुआ होगा ऐसा न्यायालय मानती नहीं है. न्यायालयका मानना है कि अगर उस स्त्रीका पति, अपनी स्त्रीको दुःचरित्रवाली समझे तो वह मान्य है. क्योंकि पर पुरुष एक परायी स्त्रीको अपने साथ अकेलेमें रखता है तो वह उसको इबादतके (पूजाके) लिये नहीं रखता है. और पतिको इस कारणसे उस स्त्रीसे तलाक मिल सकता है. ठीक उसी प्रकार एक स्त्री को भी एक वैसे ही पुरुषसे तलाक मिल सकता है.

 

अगर यह मान्यता आज भी है तो अगर ऐसी मान्यता आजसे पांच दश हजार साल पहले रखी जाती हो तो इस पर आश्चर्य नहीं होना चाहिये.

 

हम गलती कहां करते है?

 

हम एक मान्यताका स्विकार करके और पूर्ण विश्वाससे सीताकी पवित्रताको मान लेते है और फिर आगे चर्चा करते हैं.

क्यों कि हमने स्विकार कर लिया कि,

सीताको रावणके महलमें नहीं रक्खा गया था,

सीताको अशोकवनमें रक्खा गया था,

सीताके पास दैवी शक्तिथी कि रावण उसके पास आ नहीं सकता था और उसको स्पर्ष नहीं कर सकता था.

रामने लंकामें सीताकी अग्नि परीक्षा ली थी, और उसमें सीता सफल रही थी.

साक्षी कौन थे?

लेकिन इन सभी बातोंमे साक्षी कौन थे? इसका साक्षी कोई त्राहित व्यक्ति (थर्ड पार्टी जिनको रामसे और सीतासे कोई भी सरोकार न हो) नहीं था. अग्नि परीक्षा हुई, वह तो रामकी सेनाकी साक्षीमें हुई. राम की सेनाको कैसे त्राहित माना जाय.?

 

निष्कर्ष यही है कि वह अग्नि-परीक्षा अमान्य (ईनवेलीड) थी.

 

जिस बातको या जिस मान्यताको अगर आप प्रणालीके अंतर्गत सिद्ध न कर सके, तो उसको स्विकारा नहीं जा सकता. सीता की पवित्रता भी सिद्ध नहीं हो सकती थी. और इस बातको उछाला गया.

 

जिस बातको आप नकार नहीं सकते, जनताकी या तो कोई एक व्यक्ति की उस बातका या ऐसी मान्यताका आदर किया जाय, उस व्यवस्थाका नाम है जनतंत्र.

 

जिस सत्यको (बातको) नकारा न जा सके, उस सत्यका (बातका) जहां आदर होता है, चाहे वह सत्य कितने ही निम्न स्तरसे क्यों आया न हो, तो भी अगर उसका आदर होता है, उसको जनतंत्र (डेमोक्रसी) माना जाता है.

 

तो रामने उस सत्यका आदर किया. “आदर किया” मतलब आवश्यक कदम उठाये ताकि प्रणालीको क्षति न हो.

लेकिन राम तो राजा थे. युगपुरुष थे. एक पूर्ण पुरुष थे. क्या वे अपना दिमाग नहीं चला सकते थे?

जरुर चला सकते थे. और उन्होने चलाया भी.

कैसे उन्होने अपना दिमाग चलाया? कहां उन्होने गलती की? उन्होने गलती की थी या नहीं?

(क्रमशः)

 Rama Married Sita none else

शिरीष मोहनलाल दवे

 

टेग्झः राजाराम, सीता, परपुरुष, स्त्री, अपवित्र, पवित्र, अग्नि परीक्षा, थर्ड पार्टी, सत्य, प्रणाली, आदर, जनता, जनतंत्र 

Read Full Post »

%d bloggers like this: