Feeds:
Posts
Comments

ઇસ્લામની સ્થાપના તુલસીદાસે કરેલી અને સનાતન ધર્મની સ્થાપના બીલ ક્લીંટને કરી હતી. ભાગ-૨

આપણે ટીવી સીરીયલમા જ્યારે કોઈ એક એપીસોડ જોઇએ ત્યારે જાહેરાતો માટેના બ્રેકની તાત્કાલીક પહેલાં, “ ‘સીરીયલનું નામ’  અને પછી ચાલુ હૈ“ એમ નીચેની લાઈનમાં લખેલું બતાવે છે. તેમજ “આગે હૈ” અને પછી શું આવશે તેનો એકાદ હિસ્સો બતાવે છે.

સીરીયલની શરુઆતમાં પૂર્વે બતાવેલા એપીસોડમાં જે બતાવેલું તેનો ઉપસંહાર “આપને દેખા” કે “અબ તક દેખા” કે “તમે જોયું” કે એવી કોઈ  હેડ લાઈન હેઠળ બતાવે છે.

“ગયા એપીસોડમાં આ રહી ગયું” એવું આપણને બતાવતા નથી.

પણ, આપણા આ બ્લોગમાં “આ રહી ગયું” એમ કહીને આ બ્લોગના પહેલાભાગમાં જે રહી ગયું તે કહીશું.

“આ રહી ગયું”

કોઈકે વાયરલેસ સંદેશો મોકલ્યો છે. તે વ્યક્તિના અતિમનસમાં ઉભી થયેલી શંકા આપણા અતિમનસમાં પહોંચી છે.

તુલસીદાસે સ્ત્રીને (પોતાની સ્ત્રીને) મારવાની વાત કરેલી તેને મહમ્મદ સાહેબે સુવ્યવસ્થિત રીતે રજુ કરી. અને ઓછામાં ઓછી હિંસાને પ્રસ્થાપિત કરી. સમાજની અહિંસક પ્રણાલીઓ તરફ જવાની ગતિને આધારે આપણે મહમ્મદ સાહેબને તુલસીદાસના અનુગામી સિદ્ધ કર્યા એમ સ્વિકાર્યું.

પણ હવે તમે જુઓ. તુલસીદાસના રામને તો એક જ સ્ત્રી (પોતાની સ્ત્રી) એટલે કે પત્ની હતી. જ્યારે કુરાન તો પુરુષને ચાર પત્ની કરવાની છૂટ આપે છે.  ચાર સ્ત્રી માંથી એક સ્ત્રી તરફ જવું એ વ્યવસ્થાની ભૌતિક હિંસાની પળોજણમાં ન પડીએ તો માનસિક રીતે અહિંસા તરફની ગતિ થઈ કહેવાય. એટલે તુલસીદાસજી તો મોહમ્મદ સાહેબના અનુગામી જ કહેવાય ને?

ના જી. તમે તમારી વાતમાં મર્યાદા બાંધો અને પછી તારવણી કરો તે બરાબર નથી. તુલસીદાસની સીતાને અગ્નિપરીક્ષા કરવાનું કહેવામાં આવે છે. એટલે પુરુષનું એક પત્ની વ્રત અને અગ્નિપરીક્ષા એ બેનો સરવાળો કરીએ તો સરવાળામાં આવતી હિંસા, પુરુષની ચાર પત્ની કરવાની કરવાની હિંસા કરતાં અનેક ગણી વધી જાય છે. એટલે અહિંસાની બાબતમાં તુલસીદાસ કરતાં મહમ્મદ સાહેબનું કુરાન ઘણું આગળ છે. એટલે તુલસીદાસ મહમ્મદ સાહેબના અનુગામી છે તે તર્ક ધ્વસ્ત થાય છે. ઇતિ સિદ્ધમ્‌

બીજું શું રહી ગયું હતું?

સનાતન ધર્મને હિસાબે સ્ત્રી જાતિની કોઈ પણ વ્યક્તિને ગાળ પણ ન દેવાય.

કારણ કે મારા પિતાશ્રી કહેતા હતા કે સ્ત્રી માત્ર દેવી સ્વરુપ છે. એટલે સ્ત્રીને આપેલી તે ગાળ, દેવીને જાય અને આપણને પાપ લાગે.

તુલસીદાસજી કદાચ એમ સમજ્યા હશે કે “ ‘સ્ત્રીને ગાળ ન દેવાય’.   ગાળ ન દેવાય એમ જ કહ્યું છે ને! ‘તાડન ન કરાય’ એવું ક્યાં કહ્યું છે? એટલે સ્ત્રીને તાડન તો થાય જ ને વળી.” આમ તુલસીદાસમાં પ્રમાણભાનની પ્રજ્ઞા ન હતી.

ઇતિહાસ કે પુરાણોના વાચન વિષે તુલસીદાસના શોખની વાત ન કરીએ તો સનાતની રાજાઓ સ્ત્રી સાથે યુદ્ધ કરવાનું ટાળતા હતા. આ પરંપરા હેઠળ જ, ભિષ્મે શિખંડી સામે શસ્ત્રોનો ત્યાગ કર્યો હતો. રામ અને લક્ષ્મણે પણ આમ તો સુર્પણખા સામે પોતાનો બચાવ જ કરેલો. અને આ સ્વબચાવમાં જ સુર્પણખાને રામ દ્વારા અજાણતાં નાકે અને લક્ષ્મણ દ્વારા કાને વાગી ગયેલું હશે. પણ વાલ્મિકી અને તુલસીદાસને અતિશયોક્તિની ટેવ હતી તેથી તેમણે નાક અને કાન કાપી નાખ્યા એવી વાત વહેતી કરેલ. વાસ્ત્વમાં તો રામે અને લક્ષ્મણે ગડગડતી મુકી હશે. એટલે કે ભાગી ગયા હશે. કારણ કે એક સ્ત્રી સામે લડવામાં પરાજયની નાલેશી હતી.

રાવણ વિષે પણ એવું કહેવાય છે કે તે એક સ્ત્રી સૈન્ય સામે હારી ગયેલો. રાવણે એકવાર ભૂલ કરી હતી. આ ભૂલમાંથી તે શિખ્યો હતો કે સ્ત્રી સાથે જીવ્હાદ્વારા કે શસ્ત્રો દ્વારા પણ લડવું નહીં.  કારણ કે હાર કે જીતની જે શક્યતાઓ છે તે બંનેમાં નાલેશી સિવાય કશું નથી.

રાવણ, તે પછી સ્ત્રીની સાથે બાખડવાનું ભૂલી ગયો હતો. તેથી જ તેણે સીતાજીનું હરણ કરેલ પણ સીતાજીને કનડ્યો ન હતો. સ્ત્રીઓને ન કનડવાની આ પરંપરા માનવો અને સુરોમાં હતી. પણ આ પરંપરા અસુરોમાં ન હતી. અને તેના ફળ તેમણે ભોગવએલા તે આપણે સુપેરે જાણીએ છીએ.

એવું કહેવાય છે કે અશોકે કલિંગ ઉપર ચડાઈ કરી તો તેણે પુરુષોના સૈન્યને તો જીતી લીધું પણ તે પછી જે સ્ત્રીઓનું સૈન્ય આવ્યું તેને જીતવામાં તેના હાંજા ગગડી ગયેલા. અને તે પછી તેણે યુદ્ધ નહીં કરું તેવી પ્રતિજ્ઞા લીધેલી અને બૌદ્ધ ધર્મ અંગીકાર કરી લીધેલો. જોકે નવા સંશોધન પ્રમાણે તે દુશ્મનોને ધમકી આપ્યા કરતો હતો, કે કલિંગના જેવા તમારા હાલ કરીશ.

મૂળ વાત ઉપર આવીએ તો આ પ્રમાણે પુરુષો માટે કોઈ ખુશીનો સમય હોય તો ફક્ત એટલો કે “ઢોલ, ગંવાર, શુદ્ર પશુ નારી, યે સબ તાડનકે અધિકારી” એ બોલાતું સાંભળીને ખુશ થવું.

અને સાંભળી લો, કે સ્ત્રીઓને (પત્નીઓને) પણ આ વાતની ખબર છે કે પુરુષો (પતિઓ), આ પંક્તિઓ સાંભળી ખુશ થાય છે. તેમને માટે આ એક માત્ર સુખ બચ્યું છે તે પણ સાંભળવાનું. તેથી ઘણી સ્ત્રીઓ જ્યારે સુંદરકાંડની કેસેટ વાગતી હોય ત્યારે પોતાના પતિને ખુશ કરવા અને મજાક ઉડાવવા આ કડીઓનો વારો આવે ત્યારે ટેપરેકોર્ડરનું વોલ્યુમ મોટું કરી દે છે જેથી પતિ દૂર બીજા રુમમાં હોય તો પણ સાંભળી શકે. પુરુષોએ સ્ત્રીઓની આ મજાક કરવાની સ્ટાઈલને દાદ દેવી પડે.

તુલસી રામાયણના પાઠક, શ્રી અશ્વિન ભાઈ પાઠક પણ જાણે છે કે પુરુષોને આખા રામાયણમાં આ કડીઓ જ સૌથી વધુ ગમે છે એટલે અશ્વિનભાઈએ આ કડીઓની આગળ પાછળની દશે દશ કડીઓ માટે જુદો અને લંબાવેલો સુર રાખ્યો છે.

ચાલો ….  એ બધું તો જાણે સમજ્યા. પણ બીલ ક્લીંટને સનાતન ધર્મ સ્થાપ્યો એમ કેવી રીતે કહી શકાય?

આ સમજવા માટે તમારે મહાજનોનું તર્કશાસ્ત્ર સમજવું પડશે.

ધારો કે તમારે કોઈને અમુક રીતે ચીતરવો છે તો તમે એવા કેટલાકના નામાંકિત વ્યક્તિઓ વિષે વિવરણ કરો કે જેઓ ઉપરોક્ત “અમુક રીત”ના ન હતા.

આ કંઈ સમજાયું નહીં. કંઈક ફોડ પાડો.

ધારો કે તમારે એમ કહેવું છે કે કોઈ એક નિશ્ચિત વ્યક્તિ જેને તમારે ટાર્જેટ કરવો છે, તે વ્યક્તિ તટસ્થ રીતે વિચારી શકતો નથી. તો તમારે તમારી દૃષ્ટિએ જે વ્યક્તિઓ તટસ્થ હતા તેમને વિષે વિવરણ કરવું. એટલે આપો આપ સિદ્ધ થઈ જશે કે તમારો ટાર્જેટ વ્યક્તિ તટસ્થ નથી. તમારે ફક્ત એમ જ કહેવાનું કે આવી હેસીયત આનામાં (ટાર્જેટેડ વ્યક્તિનું નામ), ક્યાં છે?

કોઈ દાખલો?

કોઈ વ્યક્તિ તટસ્થ ક્યારે કહેવાય?

તટસ્થ એટલે શું?

તટ એટલે કિનારો. જે કિનારા ઉપર છે તે વ્યક્તિને તટસ્થ કહેવાય. વૈચારિક રીતે કહીએ તો જે  વ્યક્તિ સાક્ષી ભાવ રાખીને સમસ્યાનું કે ઘટનાનું અવલોકન કરે અને તે પછી અભિપ્રાય આપે તેને તટસ્થ કહેવાય. આપણા મોદીકાકા એ સાક્ષીભાવ ઉપર એક પુસ્તક લખ્યું છે. પણ બધા ગુજરાતી ભાષાવિદ મહાજનોને ખબર ન હોય તેમ એક મહાજને બીજાઓના સાક્ષીભાવ વિષે વિવરણ કરી સિદ્ધ કરી દીધું કે મોદીકાકા ક્યારેય સાક્ષી ભાવે જોઈ નહીં શકે. તે હડહડતા આરએસએસવાદી છે. ઇતિ સિદ્ધમ્‌.

પણ આપણી વાત તો બીલ ક્લીંટન અને સનાતન ધર્મની છે.

બધા મહાજનોનું તર્કશાસ્ત્ર ભીન્ન ભીન્ન હોય છે. સનાતન ધર્મ ગમે તેવો હોય તો પણ તે એક પત્નીવ્રત પુરુષને શ્રેષ્ઠ માને છે. નિયમ નહિં તો પ્રણાલી તો આવી જ છે. વળી જો નિયમ હોય તો નિયમ તોડવાની પણ પ્રણાલી છે.

જેમ જેમ ભારતીય વધુ સત્તાવાન થતો જાય અથવા કોઈ એને ટોકનાર ન હોય અથવા જે તેને ટોક્નાર હોય તેના કરતાં તે વધુ સક્ષમ હોય તો તે તેનો લાભ લેવાનું ચૂકતો નથી. ટ્રાફિકનિયમોના પાલનની બાબતમાં, વેતનની સામે કામ કરવામાં, ટેક્સ ભરવામાં, તર્કના વિતર્ક કરવામાં આપણે તેની આદતો જાણીએ છીએ.

આપણા ભારતીય બંધારણની અંતર્ગત હિન્દુ કોડ બીલમાં એક પત્નીવ્રતનો સમાવેશ કરવામાં આવ્યો છે. પણ જો કાયદામાં બારી ન રાખીએ તો આપણે હિન્દુ શાના? એટલે હિન્દુઓને રખાત રાખવાની છૂટ  રાખવામાં આવી છે. આ જોગવાઈ શરતોને આધિન છે. ધારોકે “શરતોને આધિન” ન હોત તો પણ હિન્દુઓને કંઈ ફેર ન પડત. જો પાશ્ચાત્ય મહાજનો તુક્કા લડાવવામાં બેનમુન છે તો આપણા મહાજનો સ્વબચાવ અર્થે તર્કની બાબતોમાં બેનમુન છે.

આપણો આ બ્લોગ “મહાજનો”, “સ્ત્રી તાડન”, અને “તર્ક” ના પરિપેક્ષ્યમાં સીમિત છે.

આપણા ગુર્જરભાષાના એક મહાજને વાલ્મિકીના રામને વાલ્મિકી રામાયણના આધારે કહેલ કે રામને એક જ પત્ની ન હતી. કારણ કે રામ “સ્ત્રીણાં પ્રિયઃ” એમ વર્ણિત હતા. એટલે કે સ્ત્રીઓને પ્રિય હતા. સ્ત્રી એટલે પત્ની. સ્ત્રીણાં પ્રિયઃ એટલે સ્ત્રીઓને પ્રિય હતા એટલે તેમની પત્નીઓને પ્રિય હતા.

હવે જ્યારે તુલસીદાસ “નારી” શબ્દનો અર્થ પત્ની કરે તો “સ્ત્રી”નો અર્થ “પત્ની” થઈ જ શકે. આ વાત આપોઆપ સિદ્ધ થાય છે. સીતાજી કોઈ પણ કારણસર વનવાસ જવા માટે “રામની વાંહે થયા” તેથી કરીને કંઈ એમ સિદ્ધ ન થાય કે રામને તે એક માત્ર પત્ની હતી. એવું પણ હોય કે બીજી પત્નીઓને સીતાજીના (સુપરવીઝન), ઉપર વિશ્વાસ હોય, તેથી તે બધીઓ રામની “વાંહે ન થઈ” હોય.

જો કે “મહાજનશ્રી”ના આવા અર્થઘટન ઉપર શોર બકોર થયેલો. પોસ્ટખાતાને પણ ઠીક ઠીક કમાણી થઈ હતી. પણ આ જુદો વિષય છે.

નિયમ, નિયમનું અર્થઘટન, નિયમનું પાલન અને જનતાના પ્રતિભાવની પરિપેક્ષ્યમાં જોઇએ તો બીલ ક્લીંટન હિન્દુ ધર્મમાં સુસ્થાપિત છે.

જાતીય વૃત્તિ, જાતીય સંબંધ, પરસ્પર સંમતિ અને નિયમનો સુભગ સમન્વય એટલે ગંગા નાહ્યા.

કોઈ એક ખેલાડી હતો. નામ તો યાદ નથી. પણ ૧૯૯૨-૯૩ની ઘટના છે. એક સ્ત્રી તેને મળવા હોટેલ ઉપર ગઈ. પરસ્પર સંમતિથી સંબંધ બંધાયો. પણ પછી તે ખેલાડી તે સ્ત્રીને વળાવવા માટે હોટેલની રુમના દરવાજા સુધી ન ગયો. એટલે તે સ્ત્રીએ, તે ખેલાડી સામે બળાત્કારનો કેસ માંડ્યો. મારા ખ્યાલ પ્રમાણે તે સ્ત્રી આ કેસ જીતી ગઈ હશે. કારણ કે સ્ત્રીનું માન ન સાચવવું તે એક ગુનો છે. જો ઉપરોક્ત સ્ત્રી પોતાનો કેસ જીતી ગઈ હોય તો તે યોગ્ય જ છે. ન્યાયાલયે પણ ચૂકાદો આપ્યો છે કે જો લગ્નનું પ્રોમીસ આપ્યું હોય અને કોઈ વ્યક્તિ તે સ્ત્રીની સાથે જાતીય સંબંધ બાંધે અને પછી તેની સાથે લગ્ન ન કરે તો તેને બળાત્કાર જ કહેવાય.

Bill Clinton

બીલ ક્લીંટનના કેસમાં આવું નથી.

બીલ ક્લીંટન મોનિકાના સંબંધો વિષે શોરબકોર તો યુએસમાં પણ થયો. પણ જહોન કેનેડીના મરી ગયા પછી જેક્વેલીને કરેલા પુનર્લગ્ન વિષે જેટલો શોર થયેલો તેના દશમા ભાગ જેટલો પણ નહીં. યુએસમાં વિધવા વિવાહ નવી વસ્તુ નથી. પણ યુએસની જનતા, યુએસમાં નેતા માટે, ભીન્ન માપદંડ રાખે છે. જેક્વેલીને જ્યારે એરીસ્ટોટલ ઓનાસીસ સાથે લગ્ન કર્યું ત્યારે યુએસની જનતાએ કાગારોળ મચાવી દીધી હતી. આબેહુબ જેક્વેલીનના પુતળા બનાવીને વેચવા કાઢ્યા હતા. કિમત ૧૦૦૦૦ થી ૨૫૦૦૦ રુપીયા કે ડોલર હતી. જેક્વેલીનને અપમાન જનક સ્થિતિમાં મુકી દીધી હતી. ભારતમાં મોટાભાગની પ્રજા બહુ વાંચતી નથી. પણ સ્ત્રીઓનું અપમાન કરનારો અમુક વર્ગ જરુર છે.

ટૂંકમાં પુરુષ અને સ્ત્રી બંને માટે યુએસમાં અને ભારતમાં ભીન્ન ભીન્ન માપદંડ છે. જો કે યુએસમાં સમાન સીવીલ કોડ છે. ભારતમાં નથી.

જે સંબંધો સીધા ન હોય તેવા સંબંધોને કારણે ભારતના મહાજનો જેવા કે ઓશો આસારામ, સંત રજનીશમલ, અને એવા ઘણા બધા ચમક્યા છે કે જેમણે ભય અને લાલચને “પરસ્પર સંમતિ” હતી કે “મસ્જિદમાં ગર્યો’તો જ કોણ” એવું સિદ્ધ કરવાની કોશિસ કરી છે.

તમે કહેશો કે સંત રજનીશમલ ઉપર ક્યાં કોઈ કેસ થયેલો?

અરે ભાઈ એમ મુખ્ય મંત્રીઓને ઉથલાવવામાં ઉસ્તાદ એવા ચિમનભાઈ પટેલે, બળવંતરાય મહેતાને ક્યાં  ઉથલાવેલા? ચિમનભાઈ પટેલે બળવંતરાય મહેતાને ક્યા કારણસર ઉથલાવ્યા ન હતા?

બળવંતરાય મહેતા વિમાન અકસ્માતમાં ગુજરી ગયા એટલે બચી ગયા. એ પ્રમાણે સંત રજનીશમલ વહેલા ઉકલી ગયા એટલે જેલમાં જવામાંથી બચી ગયા.

તમે કહેશો કે પણ આમાં બીલ ક્લીંટન હિન્દુધર્મના સ્થાપક કેવી રીતે કહી શકાય?

લો બસ. તમે તો એવી વાત કરી કે “સીતાનું હરણ થયું પણ પછી તે હરણની સીતા ક્યારે થઈ?”

જુઓ જાણે વાત એમ છે કે સત્ય વાતાવરણથી સિદ્ધ કરી શકાય અથવા સત્ય તર્કથી સિદ્ધ કરી શકાય. પણ સંત રજનીશમલ તો કહે છે કે તેઓ તર્કમાં માનતા જ નથી. કારણ કે તર્ક તો માહિતિ ઉપર આધાર રાખે છે. જેની પાસે માહિતિ વધુ હોય તે વ્યક્તિ,  જેની પાસે ઓછી માહિતિ હોય તે વ્યક્તિને પરાસ્ત કરી શકે. અથવા તો આપણે આપણી આસપાસ આપણા જ વળના એકઠા કરેલા હાજી હા વાળાઓની બહુમતિ થી પણ સત્ય સિદ્ધ  કરી શકીએ છીએ. જેમકે શંકર સિંહ વાઘેલા, કેશુભાઈ પટેલના સમર્થકોને “હજુરીયા” એમ કહેતા હતા.

ચાલો એ વાત જવા દો.

શાણા માણસો જે અભિપ્રાય આપે તેને તો સાચો માનવો જ પડે કે નહીં?

દુનિયામાં શાણું કોણ છે?

યુએસએ શાણું છે. કારણ ગમે તે હોય પણ યુએસનો પ્રમુખ દુનિયાનો કાકો ગણાય છે. શાણા માણસના દેશમાં રહેતા માણસોને પણ શાણા જ ગણવા જોઇએ. યુએસમાં રહેતા ભારતીયો કે જેઓ યુએસના નાગરિક છે તેમને પૂછો. પણ તે પહેલાં તેમને એક વાર્તા સંભળાવો.

૧૯૫૫ -૧૯૬૦ દરમ્યાન એક રાજકીય વિવાદ ચાલતો હતો કે “મુંબઈ” મહારાષ્ટ્રમાં જવું જોઇએ કે ગુજરાતમાં જવું જોઇએ?

અમારે ભાવનગરમાં એક સ્યામ સુંદરભાઈ હાસ્ય કલાકાર હતા. જેમ સંસ્કૃત સાહિત્યમાં કહેવાય છે કે “બાણોચ્છિષ્ઠં જગતસર્વમ્‍” (જગતમાં જે કંઈ લખાયું છે તે બધું જ કવિ બાણે લખી નાખ્યું છે. એટલે જે કંઈ કહેવાય છે તેમાં કશું નવું નથી. એટલે કે જગત, કવિ બાણનું એંઠું ખાય છે)

સ્યામસુંદરભાઈની વાર્તા કંઈક આ પ્રમાણે હતી.

મંડળીમાં ચર્ચા ચાલતી હતી. “મુંબઈ”ની સમસ્યાનો ઉકેલ કેવી રીતે લાવવો?

એક વયસ્ક “કાકા”એ કહ્યું કે આ સમસ્યાનો ઉકેલ છે.

આપણે મુંબઈના ભાગ પાડો.

વિરાર ગુજરાતને આપો, અને અમ્બરનાથ મહારાષ્ટ્રને આપો, વસઈ ગુજરાતને આપો, કલ્યાણ મહારાષ્ટ્રને આપો, બોરીવલી ગુજરાતને આપો થાણા મહારાષ્ટ્રને આપો, અંધેરી ગુજરાતને આપો, મલાડ મહારાષ્ટ્રને આપો, ઘાટકોપર ગુજરાતને આપો, વડાલા મહારાષ્ટ્રને આપો, વાંઈદરા ગુજરાતને આપો અને સાયણ મહારાષ્ટ્રને આપો …. રાજકપુર મહારાષ્ટ્રને આપો અને નરગીસ ગુજરાતને આપો.

હે …  હે …  હે… કાકા તમે ગઢ્ઢે ગઢપણે આમ રાજકપુર નરગીસનું નામ લો તે તમને શોભે નહીં. જરા ઉમરનું તો ધ્યાન રાખો.

“કાકા”એ કહ્યુંઃ એમાં મેં ખોટું શું કહ્યું છે? રાજકપુર મહારાષ્ટ્રને આપો અને નરગીસ ગુજરાતને આપો. એમાં ખોટું શું છે?

“અરે કાકા, રાજકપુર – નરગીસનું નામ તમારાથી નો લેવાય.”

“લે વળી ઈમાં શું?. જેમ રાયપુર છે, જેમ કાનપુર છે, નાગપુર છે, એમ રાજક-પુર છે.”

“કાકા… તમે તો ભારે કરી… ઠીક ચાલો … તમે રાજકપુરનું તો રાજક-પુર કર્યું …  પણ આ નરગીસનું શું?

“લે …. કૈર વાત… પણ નરગીસ તો આપણામાં છે ને … પછી સુ લેવાને વાંઈધો …

આ રીતે આપણ ભારતીય યુએસ નાગરિકોને પણ કહી દેવાનું કે બીલ ક્લીંટન તો આપણામાં છે ને … અને સાથે સાથે હિલેરી ક્લીંટન તો લટકામાં મળે છે…

Hillary Clinton

શિરીષ મોહનલાલ દવે

ટેગ્ઝઃ એપીસોડ, ચાલુ હૈ, આગે હૈ, આપને દેખા, તમે જોયું, આ રહી ગયું, અતિમનસ, તુલસીદાસ, સ્ત્રી (પોતાની, પત્ની, અહિંસા, હિંસા, અગ્નિપરીક્ષા, એક પત્નીવ્રત, ચાર પત્ની, સનાતન ધર્મ, સ્ત્રીને ગાળ ન દેવાય, પ્રમાણભાનની પ્રજ્ઞા, રાવણ, શિખંડી, ભિષ્મ, સુર્પણખા, સીતા, અશોક, કલિંગ, સ્ત્રીસેના, ખુશ થવું, સુંદરકાંડ, અશ્વિનભાઈ પાઠક, મહાજનોનું તર્કશાસ્ત્ર, બીલ ક્લીંટન, ટાર્જેટૅડ વ્યક્તિ, મોદીકાકા, કોમન સીવીલ કોડ, ઓશો આસારામ, સંત રજનીશમલ, પરસ્પર સંમતિ, મસ્જીદમાં ગર્યો’તો જ કોણ, સીતાનું હરણ થયું, હરણની સીતા, હજુરીયા, દુનિયાનો કાકો

 

According to many there may be some nationalists among Muslims in India.

But most of them are keeping mum.

All the Muslims cannot be Anti-BJP or Anti-nationals, as per the law of probability.

Look at the Governor of Kerala, Arif Mohammed Khan, who knows better Hinduism than an ordinary Hindu. Similar could be the case with Mr. Hassan Nisar of Pakistan.

Political leaders are favoring Muslims for their vote-bank. Some Media for bread and butter.

Why? Because it is the general feeling of Hindus and also of Lutyen gangs’ members that Muslims act unitedly, vote unitedly. Besides this, they are unitedly and deadly against BJP.

Actually BJP has not done anything wrong with the Muslim Citizens of India.

Let us examine what is wrong with Muslims and Hindus. We will examine what is wrong with Muslims of India.

The root causes of Hindus becoming Anti-Muslims are as under.

(1) Hindus who opted to remain in Pakistan inclusive of Bangladesh, were and are being driven out to India continuously from the date 14-08-1947 till this date, because they faced persecution from Muslims and from the state. Occasionally also the Hindus were forced to leave Pakistan. The reduction of percentage of Hindu population in Pakistan and Bangladesh published by the Government of Pakistan and Bangladesh proves this.

(2) Contrary to this (1), the Muslims of India find them safe in Hindu majority of India. Neither in 1965 nor in 1971, nor in 1989, nor in 1990, nor 1999, nor in 2002, nor during the period of several terrorists’ attacks from 1991 to 2014, no Muslim went to Pakistan /Bngladesh. No Muslim of India had/has fear of any persecutions in India.

(3) Contrary to (2) above, many Hindus left their houses from the states to the other places under religious persecutions executed by Muslims in the pockets where the Muslims are in majority.

(4)Despite of non-discriminating policy and administration of BJP Government, Muslims in general are deadly communal and Anti-BJP.

Hindus cannot understand this;

Further;

(5) Indian Muslims especially some Muslims of Kashmir, Muslim terrorists and Muslim leaders of JK do not want, deserted Hindus of JK, should be reinstated in their home state. Muslims of Kashmir kill the returning Hindus in Kashmir. Contrary to this, Muslims of JK welcome Rohingya-s.

(6) Indian Muslims oppose abrogation of Article 370 and 35A. This abrogation provides Democratic rights to Hindus in JK. Why Muslims are opposing Hindus’ democratic rights in JK?

(7) Indian Muslims oppose Citizenship Amendment Act, National Register of Citizen and National Register of Population. Indian Muslims wants the Muslim infiltrators coming from any country should be provided with Indian citizen ship, however they had not opposed the Nehru-Liyakat Ali Agreement executed in 1954.

(8) Why are Muslims intolerant and their leaders propagate for Gazava-e-Hind?

If the Indian Muslims would give away above qualities indicated in points 1 to 8, they will be honored as Parsis in India.

Hindus will stop automatically, speaking against Muslims, Islam, Moguls, Quran, Prophet Mohammed, Mullah, Genocide of Hindus by Muslims. Because all these are reactions of Hindus.

BUT MUSLIMS HAVE TO COME OUT OPENLY AND TO WORK HARD, AT at LARGE SCALE TO ACHIEVE THIS.

Shirish Mohanlal Dave

It is a willful negligence of Delhi Police

Dear Mr. Amit Shah the honorable Home Minister,

Yes. It is the willful negligence of police of Delhi, on the anarchy, created by the so-called or real farmers or the Khalistani Sikhs or the communists or the rest Lutyen gang leaders of “India and abroad” or to put them together, whatsoever may be of the gangs/persons involved.

It is a clear cut case of creating anarchy by the Lutyen gangs where Police Officers were a party to it, to allow the Lutyen gangs to create anarchy in Delhi.

We do not know the aim of BJP Gov., behind not being strict, on the Lutyen gangs who were determined to create anarchy in Delhi.

The reasons to pass blame on Delhi Police are as under;

(1) Police was discussing with the leaders of agitators since several days for hours together, while determined the pre-conditions of the tractor-march.

(2) The inputs, of information, of the involvement of Khalistanis and other lutyen gangs to create anarchy was well known to the Police officers. In case if they deny, then they are the liars, because even a “below average level person” is able to make out, from the statements of agitators’ leaders, they were going to create anarchy.

(3) The Government had stated on oath that they had received inputs of Khalistanis’ involvement in the agitators.

(4) The 40+ leaders of the agitators were used to make clear statements that;

(4.1) they are determined to agitate for a very long period unless the Farmers Act is withdrawn,

(4.2)) The 40+ leaders of the agitators were used to make clear statements that they have planned to agitate more and more strongly,

(4.3) The 40+ leaders of the agitators were used to make clear statements that they were very strong, and their strength will defeat the Government, and the Government will have to agree to withdraw the Act.

(4.4) The 40+ leaders of the agitators were used to make clear statements that they are firm on their Tractor- March on 26th January.

(4.5) The 40+ leaders of the agitators were used to make clear statements that they are determined to have tractor-march on 26th January only,

(4.6) The 40+ leaders of the agitators were used to make clear statements that there was no involvement of Khalistanis and any political party in their agitation. Actually they were absolute the liars, as many of their agitators were shouting violent slogans, and these leaders and their followers had used to keep mum on such slogans. None of them had opposed to the persons shouting violent slogans,

(4.7) The way of approach and behavior of these 40+ leaders of the agitators was known the Delhi Police officers, that the leaders are not reliable. Despite of this the Delhi-Police officers relied upon their assurance of maintaining peace. The police officers proved their stupidity.

(4.8) The anarchy on 26th January 2021, was not the first anarchy. Such anarchy was being created by Lutyen gangs in one or other forms in the demonstrations against CAA, NRC and NPR at Shaheen Bag, willful violence to spread epidemic Corona, by some Muslim leaders,  organizing conference in Mosq Markaz. Some Muslims did  chase corona worriers, with an intention  to prevent them from their duties at various places …

(4.9) The Delhi Police Officers had discussed for many days, on grant of permission for Tractor-march, and they had put forward some conditions. Have they done any videography?

(4.10) While conducting the discussion, were they not capable to read the mind of the agitators’ leaders? If not, then they must be dismissed immediately as they are not fit for the IPS Cadre. The interviewing authority while appointing them should also be taken to task.

(5) What were the instructions given to the Police party?

(5.1) It is given to understand that the Delhi Police had asked the 40+ leaders of the agitators, to provide the tractor registration numbers and the name of the drivers. Had the police constables, police sub Inspectors and police inspectors were asked to check them at well ahead of entry point of each route?

(5.2) The agitators were not supposed to bring any weapon as per the conditions. Had their tractors were checked for that, well ahead of the entry point of each route?

(5.3) The agitators were not supposed to carry any person other than driver on the tractor. Why was this not checked by the police, at the well ahead of the entry point of each route?

(5.4) The tractor March was not to be commenced before the Government program finishes. But the agitators had break this condition at every entry point. Why the police on duty did not stop them? They could have punctured the tractors as soon as they executed breach of pre-agreed condition.

(5.5) A tractor driver is noticed in a video that he was driving the tractor in a way to crush the police constables, by way of chase. The police men were running to save their own lives. Why the police inspector could not shoot to the tyres of tractor to stop it? The PSI or PI could have fired the driver. Why the Police officers were failed to do so?

(5.6) Police Commissioner Delhi is hailing police all the time that police remain moderate, despite the agitators had not adhered to their promises. Police continuously requesting the violent agitators, urging the violent agitators to stop the violence. Is it the way of maintaining the Law and order? The agitators had been so much violent even on police that police had to run away to save their lives.

(5.7) Despite of knowing the violent agitators the police commissioners hails moderate approach of police. Does police remain moderate with others?  No. Not at all. Recall how the police behaved with the really peaceful agitators in 2012 at mid night in Ramlila Maidan?

(6) The Police Commissioners of Delhi must be dismissed and must be prosecuted for their inefficiency, negligence and lack in intelligence to take enough precautions.

(6.1) It was the matter of common sense that when the agitating leaders used to tell openly that they had well planned the agitation. In such a situation, being a Police Commissioner, he must have done better planning than the agitating leaders.

(6.2) As for the police commissioners, to take such precaution is falling in their duties. For this purpose only the Commissioners of Police and his subordinates have been appointed and paid salaries.

(6.3) The Police Officers have not learnt from their past failures, in preventing agitators cum antinational elements, creating anarchy.

(6.4) Few days back, Rahul Gandhi had told bluntly, “Take it from me , the farmers act will have to be withdrawn.” He uttered this statement repeatedly. From this statement, it must be clear to the Police Officers, that the details of the planning of creating the anarchy was known to Rahul Gandhi.

(6.5) Why did the police commissioner of Delhi not arrest or interrogate Rahul Gandhi for his above statement?

(6.6) How many arrests have been made or not, is not known till late night on 26th January. FIRs are useless at this moment.

Last but not the least ,

Dear Mr. Amit Shah, unless you have allowed to happen this anarchy as a part of a strategy, the people of India will take you, as a failed Home Minister. People otherwise want you to execute mass arrest and take sever actions against these agitators, their leaders, supporters and the Delhi police officers.

With full regards,

Yours truly,

Shirish M. Dave

“गज़वा ए हिंद” बनाना अशक्य नहीं है.

पश्चिम बंगालका विधानसभा चूनाव हमने देख लिया है.

गाली गलोच एवं बिकाउ सरकारी अफसर

चूनावके पहेले ममताके समक्ष भारतीय सेवा अफसरोंने शपथ ली थी कि वे ममताके पक्षको जीत दिलायेंगे.

ममताका केंद्रके मंत्रीयोंके विषयमे कैसा अति निम्न कक्षाका व्यवहार रहा वह भी हम जानते है. खास करके नरेंद्र मोदी, राजनाथ सिंह एवं अमित शाह के प्रति उसके उच्चारण गलीके गुण्डोंसे भी बदतर थे.

ममताने पश्चिम बंगालके गवर्नर तक को छोडा नहीं. उनको धमकी तक देदी कि, “याद रक्खो, तुम्हे कभी न कभी सरकारी अफसरोंकी तरह निवृत भी होना है.” यह एक खुली धमकी थी, जो सरकारी अफसरोंको भी लागु पडती थी. सरकारी कर्मचारी (अफसर सहित) ९९ % बिकाउ होते है.

आव भाई हरखा

ममताने और उसके अधिकारीयोंने मिलकर कौभांड किये थे. इन कौभांडोंकी जांँच करनेवाली सीबीआईकी टीमके सदस्योंके प्रति ममताने जो अतिनिम्न कक्षाका व्यवहार किया था वह भी हमने देखा है.

ममताने खुलेआम दलितोंको धमकी दी थी कि, यदि तुम लोगोंने मुज़े मत नहीं दिया तो तुम्हारी खैर नहीं.

इस गद्दार ममताने कोमवाद और प्रांतवात फैलानेका अधिकतम प्रयत्न किया. उसने भरपूर कोशिस की कि, बीनबेंगाली नेता पश्चिम बंगालमें बीजेपी के समर्थनमें चूनाव प्रचार करने न आवे. वे बाहरी है. बाहरी लोगोंको पश्चिम बंगालमें आना मना है. ममताने कई बीजेपी नेताओंका खून भी करवाया.

यह ममता, सुएज सेना (शिव सेना) से १००० गुना प्रांतवादी है. यह ममता, साम्यवादीयोंसे भी अधिक हिंसक और देशद्रोही है. यह ममता, आइ.एस.आइ.एस. से भी अधिक आतंकवादी है, और यह ममता, कोंगीयोंसे (नहेरुवीयनोंसे) भी अधिक जूठ बोलनेवाली है.

और ये सब हमने चूनावके पूर्व और चूनावी परिणामोंके पश्चात् ममताने दलितोंके उपर जो आतंक फैलाया वह भी हमने देखा. इस ममताने, घुसपैठी रोहींग्याओंकी सहायतासे पश्चिम बंगालमें एक १९८९ – ९० वाला मीनी-कश्मिर बनाया है.

ये बातें क्यूंँ कहेनी पडती है?

बेंगालमें क्या केवल रोहींग्या ही रहेते हैं?

क्या बंगालमें डरपोक केवल दलित हिंदु ही है?

बेंगालके भद्रलोग कहांँ गये?

बेंगालमें भद्र लोग है भी या नहीं?

भद्र लोगोंके लिये गलतीयांँ कितनी दफा परमीसीबल है?

एक बार, दो बार या बार बार?

फिरसे याद दिलाना पडेगा क्या ?

चलो मान भी लिया कि २०११में जबसे ममता सत्तामें आयी तो उसके ५ साल साम्यवादीयोंके कुशासनसे बने हुए गढ्ढे पुरनेमें उसने लिया. २०१६का चूनावमें ममताको, उसको कुछ कर दिखानेके लिये पश्चिम बंगालकी जनताने उसको विजयी बनाया.

लेकिन २०१६से २०२१तक ममताने कौभांड तो किये ही लेकिन साथ साथ संविधानीय संस्थाओंकी अवमानना यहांँ तक की, कि, ऐसा लगता है कि केंद्रीय सत्ता, फरमान, मंत्री मंडल, गवर्नर, सीबीआई … आदि संस्थाओंका कोई मतलब ही नहीं. और राज्यकी सत्ता सबकुछ कर सकती है चाहे भारतकी जनताने बीजेपी को कुछ सुनिश्चित जनादेश दिया हो.

यही ममता, बंग्लादेशसे आये घुसपैठीयोंको निकालनेकी मांग कमसे कम १९९८से कर रही थी. उस समय २.५ करोड घुसपैठ थे उसके बाद हर साल ३ लाख प्रतिवर्ष बंग्लादेशी मुस्लिम घुसपैठ आते रहते थे.

ममताकी तबियत गुदगुदायी

कोंग्रेसकी मुस्लिम परस्त नीतिसे ममताकी तबियत भी गुदगुदाई और उसने भी गैर कानूनी तरीकेसे घुसपैठीयोंको आवकारना शुरु किया. अपनी पूरानी मांँग जो घुसपैठीयोंको निकालनेकी थी उसके बारेमें उसका व्यवहार, “मस्जिदमां गर्यो तो ज कौन!” जैसा रहा. ( गुजरातीमें यह एक मूंँहावरा है, जिसका अर्थ है “मैं मस्जिदमें गया ही नहीं था” मतलब है कि निरपेक्ष जूठ ही बोलना).

कलकत्ता महानगरपालिकाके चूनावमें टी.एम.सी. को १४४ मेंसे १३४ सीटें मिली.

मान लो कि २०२१के विधानसभाके चूनावमें पश्चिम बंगालके भद्र लोग, ममताके एकाधिकारवाद, ममता द्वारा की गयी भारतके संविधानके प्रावधानोंकी अवहेलना, मुस्लिमोंका असीम तुष्टीकरणको समज़ नहीं पाये. लेकिन चूनावके बाद जो राज्य (ममता) प्रेरित, रोहीग्या द्वारा, हिंदु महिलाओं पर किये गये गेंग रेप, हिंदुओंके घरोंको जलाना, अनेक हिंदुओंकी हत्या करना और उनको अपने राज्यसे भागने पर मजबुर करना, उतना ही नहीं, अपने घर वापस आनेके लिये पैसे मांगना, … ये सब तो खुले आम किया गया है. यह बात तो अंधा भी जानता था और समज़ता था.

ये सब बातें पश्चिम बंगालके युवाओंको और पश्चिम बंगालके भद्र लोगोंको मालुम होना ही चाहिये.

लेकिन देखिये क्या हुआ?

कलकत्ताके भद्र लोगोंने और युवा लोगोंने ममताको इनाम-स्वरुप १४४मेंसे, १३४ सीटें देदी. क्या यही सच्चा पश्चिम बंगाल है? अवश्य ऐसा ही लगता है.

आपको अवगत होना चाहिये कि बांग्लादेशके मुस्लिम घुसपैठ केवल पश्चिम बंगाल में ही नही है, वे उत्तरपूर्वी राज्योंमें भी पश्चिम बंगालसे ओवरफ्लो होकर गये है. अंग्रेज शासनमें एवं कोंगी शासनमें ख्रीस्ती पादरी ओंने मेघालय, नागालेंड, त्रीपुरा, … आदिमें आदिवासीयोंका धर्मपरिवर्तन करके उनको ख्रीस्ती बनाया, इसके कारण, अब मुस्लिम और ख्रीस्ती लोग, पूरे नोर्थ ईस्टके राज्योंमें बहुमतमें कभी भी आ सकते है. ममताने कई मुस्लिम घुसपैठीयोंको भारतका नागरिकत्व दे दिया है. अभी कई सारे मुस्लिम घुसपैठी भारतीय नागरिक बननेकी कगार पर है. पश्चिम बंगाल मुस्लिम घुसपैठीयोंका प्रवेश द्वार है और ममता सरकार उनके स्वागतके लिये सर्वदा तयार बैठी है. ऐसी परिस्थितिमें पश्चिम बंगालके भद्र लोग और युवा वर्ग, निस्क्रीय रहेगा, मौन रहेगा, स्वार्थी रहेगा तो “चीकन नेक” तूटा ही समज़ो.

उत्तर – पूर्वके राज्योंके   ख्रीस्ती और मुस्लिम लोग अपनेको भारतवासी नहीं मानते है. ख्रीस्ती लोग स्वयंको और अपने राज्यके विस्तारको भारतसे भीन्न मानते है. वे हिंदु लोग जिन्होंने अपना धर्म नहीं छोडा है उनको “ये तो इंडीयाके है” ऐसा समज़ते है. मुस्लिम लोग तो गज़वा ए हिंदका ही स्वप्न देखते है. उत्तर- पूर्वके राज्योंमेंसे  कई राज्योंने देवनागरी (बेंगाली) लिपि छोडके रोमन लिपि अपना ली है. हमारी सरकार मुस्लिम तुष्टीकरणकी नीति छोड नहीं पाती है. और उर्दुको एक भीन्न भाषाका दरज्जा देती है, वास्तवमें उर्दु, हिंदीसे भीन्न है ही नहीं. 

ऐसा लगता है कि, पश्चिम बंगालके भद्र लोग और पश्चिम बंगालके युवा लोग, या तो अपने क्षेत्रप्रेममें अंधे हो गये है, या तो परिस्थिति समज़नेमें उनकी प्रज्ञा ओछी है. कलकत्ताके महानगर पालिकाके चूनावके परिणामोंने कलकत्ता वासीयोंके राष्ट्र-प्रेम पर प्रश्न चिन्ह लगा दिया है.

आश्चर्य की बात यह भी है कि कुछ स्वयं प्रमाणित राष्ट्रवादी लोग ऐसे वोकल है कि वे प्रमाणभानकी, प्राथमिकताकी और संबंद्धताकी प्रज्ञाके अभावमें, मृत विषयोंकी या तो मृतप्राय विषयों की चर्चा किया करते है. सांप्रत समस्याओंकी चर्चा और खास करके लुट्येन गेंगोंके नेताओंकी बुराईयां पर जनजागृती नहीं लाते है. यह एक अति गंभीर समस्या है.

लुट्येन गेंगके नेतागण योगीजी को हराने के लिये कटिबद्ध है. युपीका चूनाव, भारतके भविष्यके लिये एक सीमाचिन्ह और लीटमस  है.

कलकत्ताकी महानगर पालिकाके चूनावमें बीजेपीकी करारी हार एवं ममताकी बहूत बडी जीत, गज़वा ए हिंदकी नींवका पत्थर है.

ऐसा लगता है कि अब बेंगालकी संस्कृति, वह नहीं रही, जिसे अन्य भारतवासी, बंकिमचंद्रवाली विद्रोहभूमि के नामसे पहेचान थे, रवींद्रनाथ टागोर वाली “ऍकला चलो” संस्कारवाली कृतनिश्चयी भूमि के नामसे पहेचानते थे, आज़ाद हिंद फोजके सेनापति, सुभाषबाबु की भूमिसे पहेचानते थे.

“इस मीट्टीसे तिलक करो यह धरती है बलिदानकी” वह लुप्त हो गई है क्या?

शिरीष मोहनलाल दवे

तोगडीयाजी बिक गये है?

जी हांँ, ऐसा लगता है कि तोगडीयाजी बिक गये है ऐसा लगता है. किसने उनको परचेज़ किया यह संशोधनका विषय है. हांँ जी आप यह नहीं केह सकते कि वह डकैत गेंग (ठगैत गेंग कहो या खालिस्तानी गेंग कहो या टीकैत गेंग क़हो इससे कोई फर्क नहीं पडता.), या ममता गेंग कहो, या कोंगी गेंग कहो, या स्वयंसेभी प्रमाणित गद्दार सी.पी.आई.एम. वामपंथी गेंग कहो, या टूकडॅ टूकडॅ गेंग कहो, या लल्लुकी चारा गेंग कहो, या टोटी चोर मुल्लायमकी या उसके फरजंद सपा गेंग कहो,

स्वयंसे भी प्रमाणित मुल्लायम अब्बाजान के फरज़ंद अखिलेश को तोगडियाने इस फरजंदको “हनुमान-भक्त” ऐसा प्रमाण पत्र दे दिया है.

जब तोगडियासे प्रश्न पूछा गया कि युपीमें अगला मुख्य मंत्री कौन होगा.

तब तोगडियाने निःसंकोच बोल दिया कि; “या तो राम भक्त मुख्य मंत्री बनेगा, नहिं तो हनुमान भक्त मुख्य मंत्री बनेगा. उन्होने आगे कहा कि, उनका कहेनेका मतलब यह है कि हिंदु ही मुख्य मंत्री बनेगा.”

आप नहीं मानेंगे, किंतु मुज़े पहेलेसे तोगडियजी एक शंकास्पद व्यक्ति लगता थे. कमसे कम जबसे बाजपाईजी प्रधान मंत्री बने तबसे. और खास करके जबसे नरेंद्र मोदी प्रधान मंत्री बने तबसे तो तोगडियाजी, बीजेपी विरुद्ध अपने विश्लेषणकी बयानबाजी करते रहेते है.

एक बात समज़ लो कि सच्चे मित्रकी पहेचान क्या है.

पापान्निवारयति योजयते हिताय । [मित्रको पाप करनेसे रोकता है. उसको भले काममें जोडता है]

गुह्ययं च गुह्यति, गुणान प्रकटी करोति । [मित्रका सीक्रेट, सीक्रेट ही रखता है]

आपत्कालेऽपि, न च जहाति, ददाति काले । [कपरे कालमें मित्रको छोडता नहीं है, पर मदद करता है]

सन्मित्रलक्षणं ईदं प्रवदन्ति संत ॥ [सज्जन मित्रके ये लक्षण होते है ऐसा संत लोग कहेते है]

जैसे मित्रका हित है वैसे बीजेपी शासनवाले देशका हित है. सन्मित्र पापसे अपने मित्र को रोकता है.

हिंदु संतोको मारनेसे क्या तोगडियाजीने मुल्लायमको रोका था? इन अब्बाजान – और उनके फरजंदको मुस्लिम माफियाओंको मदद करने से रोका था? चोरी करनेसे इन दोनोंको रोका था? ये सब पाप कर्म करनेसे तोगडियाजीने इन सब कर्मोंसे उन दोनोंको रोका होता तो वे देश प्रेमी कहेलाते. लेकिन उन्हों ने किया नहीं. सेंकडो निशस्त्र हिंदु संतो पर मुल्लायमको गोलीयां चलाने दिया. इस प्रकार तोगडियाजीने अपने मित्र मुल्लायम को परोक्ष रीतसे मदद किया. तोगडियाने कभी मुल्लायम एवं उसके फरजंदका माफिया राज और चोरीयोंकी निंदा नहीं की. देशकी संपत्ति को कोई लूटे तो देशका नुकशान होता है, ये बात तोगडिया नहीं जानते क्या ? तोगडिया जी देशप्रेमी नहीं लेकिन मुल्लायम और उसके फरजंदके प्रेमी ठहरे न?

यदि बीजेपीमें कोई बुराई है, तो तोगडिया को उनको गुह्य रखना चाहिये और अंगत मुलाकात लेकर पीएम, एचएम, एफएम के साथ संवाद करके अपनी बात रखना चाहिये था क्यों कि देशके हित में यह बात आचरणीय है.]

तोगडियाजीने क्या किया?

तोगडियाने तो बेधडक बोल दिया कि, एक हिंदु ही युपीका मुख्य मंत्री बनेगा.

ऐसा कह कर तोगडियाने एक हिंदुत्त्ववाला प्रमाण पत्र, मुल्लायमके फरजंद को दे दिया, इससे यह भी सिद्ध होता है कि तोगडियाजी पूर्ण रुपसे हिंदुत्त्वको जानते है और यह समज़ते है कि हिंदुओंको नुकशान करके मुस्लिमोंका होंसला बढानेवाला, और सत्त्ताप्राप्तिके लिये अपने हिन्दु धर्मके अगणित संतोंकी बिना हिचकिचाहट हत्या करनेवाला मुल्लायम और उसका फरजंद हिंदु है. क्यों कि वे जन्मसे हिंदु है. मुल्लायम और उसका फरजंद हिंदु है ऐसा प्रमाणपत्र भी तोगडियाजी दे सकते है क्यों कि वे विश्व हिंदु परिषदके प्रमुख/नेता है.

तोगडियाजी वास्तवमे विश्व हिंदुधर्मके दुश्मन है.

मुल्लायम और उसका फरजंद हनुमान भक्त नहीं है. स्वयंको हनुमान भक्त दिखाना मुल्लायम और उसके फरजंदका फरेब है. तोग़डीयाजी इन दोनोंको हिंदुत्त्वका प्रमाण पत्र देके अपनी हिस्सेदारी नीभाते है. तोगडियाजी अपने अज्ञानके कारण या/और अक्षमताके कारण यह नहीं अवगत कर पाते कि उनके जैसे और लोग भी हो सकते है या बन सकते है कि मुल्लायमके पक्षको हिंदुवादी पक्ष समज़ ले और यह तथा कथित एवं फरेबी हनुमानभक्त के पक्षको वोट दें.

राक्षस और मनुष्योंमें (खास करके हिंदुओंमें) क्या फर्क है?

हिंदु धर्मके तत्त्वज्ञानके हिसाबसे मनुष्यका यज्ञ (कार्य) विश्वहितके लिये होता है. राक्षस लोग स्वकेंद्री होते है. वे स्वार्थके लिये यज्ञ (कार्य) करते है. मनुष्य (हिंदु) लोग जनतंत्रवादी होते है और पारदर्शितासे अपना कार्य करते है. राक्षस लोग मायावी होते है और वे गुह्यतासे अपना कार्य करते है.

तोगडियाजी क्या है?

यदि मुल्लायमका फरजंद मुख्य मंत्री बने तो हमारे देशको फायदा होने वाला है क्या?

नहीं … नहीं … नहीं.

यदि मुल्लायम का फरजंद मुख्य मंत्री बने तो तोगडियाजीको फायदा होनेवाला है क्या?

यदि हांँ … तो कैसे? जो मुल्लायम, जयप्रकाश नारायणको वफादार नहीं रह सका उसका फरजंद तो मुल्लायमसे भी बढकर पेटु है.  क्या अखिलेश तोगडीयाजीको वफादार रह सकता है? जयप्रकाश नारायणकी नीतिमत्ता छोडकर, ये दोनों कोंगी गेंगको वफादार बने रहे है.

तोगडीयाजी, आपको कुछ भी फायदा होनेवाला नहीं है.

एते सत्पुरुषा परार्थघटका स्वार्थान्‌ परित्यज्यते । [जो दुसरोंके हितके लिये अपना स्वार्थ त्यागते है वे सज्जन है]

सामान्यास्तु परार्थउद्यमभृतस्वार्था विरोधेन ये । [जो दुसरोंको नुकशान न हो उस प्रकार अपना हित साधते है, वे मध्यम कक्षाके मानव है]

तेमी मानव राक्षसा परहितं स्वार्थाय निघ्नंति ये । [ जो अपने हितके लिये दुसरोंको हानि पहूंँचाते हैं, वे मानवके रुपमें राअस है.]

ये तु घ्नन्ति निरर्थकं परहितं ते के न जानीमहे ॥ [(किंतु) जो लोग व्यर्थ ही दुसरोंको हानि पहूंँचाते है वे कौन है वह, हम जानते नहीं]

तोगडियाजी, आप तो राक्षससे भी बढकर है.

शिरीष मोहनलाल दवे

आगामी विश्लेषणः “गज़वा ए हिंद असंभव नहीं” *

२०२४में गद्दारोंको हरानेकी व्यूह रचना – ४

(४) लश्करी शासन एक कल्पना और दिवास्वप्न है.

मुस्लिमोंको भारतसे निकालनेके लिये, यदि हम लश्करी शासन लावें तो?  हमे उसके उपर हजारबार सोचना पडेगा. पाकिस्तानका लश्करी शासन हमने देखा है.

जो देश या आदमी, बीना कोई श्रम और त्याग किये, केवल सत्ता लालसा के कारण, सत्ता प्राप्त करता है तो उसको भ्रष्ट बननेमें समय नहीं लगता. पाकिस्तानकी प्रवर्तमान स्थिति, इसीके कारण है. नहेरुवीयनोंका और उनके सांस्कृतिक साथीयोंका भ्रष्ट होनेका कारण भी यह ही तो है.

(५) तो अब जो विकल्प बचा वह यही है कि हम, जो मुस्लिम हमारे देशके नागरिक है, उनकी विचारधाराको सुधारें.

लेकिन क्या सुलेमान सुधरेगा?

जी हांँ. अवश्य शक्य है.

(५. १) समान सीवील कोड लाना लागु करना,

(५.२) जनसंख्या नियंत्रण का नियम लाना और लागु करना,

(५.३) ज्ञाति, धर्म या क्षेत्र के आधार पर मतदान करनेका प्रचार करना, करवाना, आंदोलन करना करवाना या मांगे रखना इत्यादिको अवैध घोषित करना और इनको अपराधकी श्रेणीमें रखना, और उनका  नागरिकता अधिकार कुछ कालके लिये स्थगित करना या रद करना.

(५.४) “उर्दु” को हिंदी घोषित करना और उसके लिये देवनागरी लिपिको ही मान्य रखना.

(५.५) आमजनताको कष्ट या अवरोध पहोंचे वैसे आंदोलन अवैध और अपराधिक श्रेणीमें लाना. और नागरिकता अधिकार कुछ कालके लिये स्थगित करना या रद करना.

उपरोक्त नियमोंसे भारत एक हिंदु राष्ट्र अपने आप बन जाता है. और मुस्लिमोंकी गैरकानूनी अमानवीय आदतें नष्ट हो जायेगी.

(६) ऐसे कानून लानेसे क्या होगा?

(६.१) जो कानून संसदमें पास हो चूके है या न्यायालयके आधिन है, उनके विरुद्ध आंदोलन नहीं हो सकेगा. अभिव्यक्तिका स्वातंत्र्य सीमा विहीन अभिव्यक्ति नहीं हो सकता. सी.ए.ए. या कृषि कानून का विरोध करनेवाला आंदोलन अभिव्यक्तिकी सीमासे बाहर है. और ऐसा आंदोलन अपराधी मामलेके अंतर्गत आयेगा. तो टीकैत ठगैत जैसे लोगोंको न्यायाधीश भी बचा नहीं पायेगा,

(६.२) मार्गों पर या मैदानों पर नमाज़ बंद हो जायेगा. और मस्जिदोंपर लाउड स्पीकर झीरो डेसीबल हो जायेगा. अलबत्त मंदिरोंको भी देखना होगा कि ध्वनि अपने परिसरसे बाहर न हो,

(६.३) रास्ते पर पटाखे फोडना बंद होगा,

(६.४) इस्लाम के नाम पर, क्षेत्रवाद (भाषावाद) नाम पर, बाहरी/आमचा आदमी/माटीर मानुष के नाम पर प्रचार करना, मत मांगना बंद हो जायेगा, ऐसे अपराध पर व्यक्तिका नागरिकताका अधिकार कुछ कालके लिये स्थगित होगा या नष्ट होगा.

(६.५) लग्न तब ही मान्य माना जायेगा कि जब दुल्हा-दुल्हन एवं उनके माता-पिता या उनके वडिल या वकिल या जनप्रतिनिधि की साक्षी हो, रजीस्ट्रारके समक्ष प्रतिज्ञा लें और हस्ताक्षर करें. लग्नके लिये धर्म परिवर्तन अनिवार्य नही होगा.

(६.६) चौराहे पर भाषण बाजी करना या विरोध प्रदर्शन करना या मिजलस करना अवैध होगा. क्यों कि इससे राहदारीयोंको और वाहनव्यवहारको कष्ट होता है.

कानून भंग किया तो कामसे गया. ऐसी व्यवस्था होनी चाहिये. कानूनका पालन १०० प्रतिशत सख्तीसे करना सरकारके लिये अनिवार्य होगा. ऐसा नहीं हुआ तो वरिष्ठ अधिकारी पदच्यूत होगा.

एक बात हिंदुओंको समज़ना अत्यंत आवश्यक है कि मुसलमानोंके असामाजिक तत्त्वोंको,  कोंगीयोंने और उनके सांस्कृतिक साथीयोंने बहेकाया है.

सभी मुसलमान एकसे नहीं होते है. यह बात अवश्य सत्य है कि, सुज्ञ, सुभद्र एवं प्रगतिशील मुसलमान कम होगे. निष्क्रिय होगे. लेकिन उनका अभाव नहीं है. ऐसे मुसलमानोंको हमें मंच देना है और बढावा देना है. गद्दार गेंगे जो यह सोचके बैठी है कि मुस्लिम लोग तो हमारी वॉट बेंक है. इस सोच को हमें तोडना पडेगा.

सुज्ञ, सुभद्र एवं प्रगतिशील मुसलमानोंको भी आगे आना पडेगा. सुज्ञ, सुभद्र एवं प्रगतिशील मुसलमानोंका कर्तव्य बनता है कि वे हिंदुओंके उस भ्रम को तोडे कि मुस्लिम मात्र बीजेपी एवं देश विरोधी है.

इस्लामकी बुराई

किसीको अपमानित करके हम उसको सही रास्ते पर नहीं ला सकते

राष्ट्रवादीयोंको यह बात भी समज़नी आवश्यक है कि इस्लामका विरोध करते रहेना यह कोई मुस्लिमोंको सुधारनेका मार्ग नहीं है. इरान, साउदी, ओमान … आदि कई मुस्लिम देश है, जो भारतीयोंका (हिंदुओंका) आदर करते हैं, और अपनी समृद्धिमें भारतीयोंको (हिंदुओंको) सहभागी बनाते है.

इस बातसे अवश्य लुट्येन गेंगोंके पेटमें उबलता हुआ तेल पडता है. लेकिन यदि हमारे राष्ट्रवादी लोग केवल इस्लामकी निंदा करनेमें सक्रिय रहेंगे तो पाकिस्तान सहित अन्य देशोंकी प्रगतिशील जनता पर बुरा असर पड सकता है. यह बात हमें भूलना नहीं चाहिये.

हांँ यह बात अवश्य सही है कि हम प्रवर्तमान एवं प्रासंगिक बुराईयोंकी “टु ध पोईंट”, चर्चा करें. 

हमारे देशमें ही मुस्लिमोंमें जो वोरा और खोजा होते है वे शांत, सुशील एवं प्रगतिशील कोम्युनीटी होती है. उनके उपर भी “मुसलमान मात्र  निंदनीय है”  ऐसा कहेनेसे बुरा असर पडता है.

आप निम्न दर्शित वीडीयो अवश्य देखें

मुस्लिमोंमें भी प्रगतिशील मुस्लिम होते है. यदि हम उन सुपथगामी/सुपथगामिनी मुस्लिमोंको बढावा देंगे तो हम लुट्येनगेंगोंकी वॉट बेंकको तोड सकते है. इसमें कोई शक नहीं, यदि हम सातत्य पूर्णता से ऐसा करते रहे तो.

शिरीष मोहनलाल दवे

२०२४में गद्दारोंको हरानेकी व्यूह रचना – ३

आपको विनंति है कि आप “२०२४में गद्दारोंको हरानेकी व्यूह रचना – २” फिरसे पढें ताकि आपको इस विषयमें सातत्य रहे.

हमें क्या नहीं करना चाहिये.

(१) हमें ऐसे ब्लोग नहीं लिखने चाहिये जिनका विषय वर्तमान समयमें अप्रस्तुत हो या हिंदुओंके एक वर्गको अनीष्ट लगता हो.

(२) जो मुस्लिम और हिंदु राजा महाराजा थे  या, जो कुछ भी हो उनकी निंदा न हो..

ऐसा क्यूंँ?

अधिकतर मुस्लिम जनमानस में यह बात ठूस कर भर गयी है कि, वे मुस्लिम है और वे हिंदुओंसे भीन्न है. बीजेपी उनका दुश्मन है, इस लिये वह इतिहाससे खेल कर रहा है. इसलिये बीजेपी, मुगलोंकी बुराई कर रहा है.

हमें ज्ञात होना अवश्यक है कि, इतिहासको सरलतासे विवादास्पद बनाया जा सकता है. ऐसी चर्चाका असर केवल धिक्कार फैलाना होता है. कोंगीयों को यह काम करने दो. हमें कोंगीयोंको कोसनेका  मौका मिलेगा. 

ऐतिहासिक पात्र सभी मर गये है.

वे पात्र कैसे थे? इस बातको भारतकी शिक्षानीति को तय करने वालों पर छोड दो. हमसे अधिक सुज्ञ लोग राजिव मलहोत्रा, श्रीनिवासन, … जैसे कई लोग है और वे राष्ट्रवादी भी है और हमसे अधिक सुज्ञ है. मुस्लिमोंमें भी ऐसे कई लोग ऐसे ही है. जो ऐसे राष्ट्रवादी मुस्लिम है हमें उनकी बातोंको बढावा देना है.

(३) यह बात सामान्य है कि, कुछ लोग इस्लाम के विरुद्ध लेख लिखा करते है. इस्लाम एक असहिष्णु पंथ है और यह पंथ, बीन-मुस्लिमोका बहिष्कार एवं उनकी कत्ल तक करनेका आदेश देता है. यह बात क्या सच है?

इसमें दो शक्यता है. हांँ या ना.

(३.१) यदि हांँ है. तो हमारे पास दो रास्ते उपलब्ध है. सभी मुसलमानोंको निकालो या उनको इस देशमें रहेनेके योग्य बनाओ.

यदि सभी मुसलमानोंको निकालना है तो ये २० करोड मुसलमानोंको निकालने का रास्ता कौनसा है?

मोदी हो या योगी हो, किसीमें भी यह ताकत नहीं है.

(३.२) हांँ जी. हम यदि एक एकाधिकारवाली और केवल हिंदुप्रेमी सरकार चूनें या पाकिस्तान जैसा लश्करी शासन लावें, या तो ऐसा एक पक्ष स्थापित करें जिसका एजंडा सभी मुस्लिमोंको भारतमेंसे निकालना हो.

क्या यह शक्य है?

अरे भाई हमारे बीजेपीका एजंडा है कि हम, बंगला देशी और पाकिस्तानी मुस्लिम घुसपैठीयोंको निकालेंगे. ये मुस्लिम घुसपैठीयें कमसेकम ३ करोड तो है ही. इस काममें कोई कानूनी अवरोध भी नहीं है. नहेरु-लियाकत अली समज़ौता को कार्यान्वित करना है. सी.ए.ए. और एन. आर. सी. एवं एन. आर. पी. इस लिये तो है.

(३.३) कोंगीकी दुर्गादेवीने तो प्रण भी लिया था कि वह हर हालातमें ये घुसपैठीयोंको निकालेगी, जो उस समय एक करोड थे. कोंगीकी दुर्गादेवी (इंदिरा गांधी) भी उसके अब्बाजान जैसी ही थी.

(३.४) इंदिरा गांधीके अब्बाजानने प्रण लिया था. नहेरुने संसदके समक्ष प्रण लिया था. नहेरुने ७१००० चोरस मील भारतकी भूमि, जो चीनने १९६२में हडप ली थी, वह वापस लेनेके लिये भारतकी संसदके समक्ष प्रण लिया था कि, जब तक उस भारतकी भूमिको, वे वापस नहीं लेंगे, तब तक वे चैनसे बैठेंगे नहीं. मतलब कि, आराम  नहीं करेंगे.

फिर क्या हुआ?

होगा क्या?, कुछ नहीं.  नहेरु तो १९६४में चैनसे दहेरादुनमें आराम करने गये और वार्धक्य से अल्लाहके या शैतानके प्यारे हो गये.

इंदिरा गांधी भी तो नहेरुकी ही औलाद थी. नहेरुवीयनोंके प्रण तो, पानी के उपर लिखे अक्षरोंके बराबर है. उनके शब्दोंकी कोई किमत नहीं थी. जब नहेरुवीयनोंकी सत्ता डगमगाने लगती है तब वे बेधडक, हिंदु संतोंकी भी हत्या कर सकते हैं. लेकिन मुसलमानोंकी जब बात आती है तो, उनके विरुद्ध चाहे मुसलमान (एवं ख्रीस्ती भी) आतंकवादी ही क्यूं न हो, उसके उपर अर्थपूर्ण कार्यवाही न करना उनका धर्म है.

(३.५) ममताने भी, जब उसका शासन नहीं था तब, घुसपैठीयोंको निकालने लिये आंदोलन किया था. ममता तो इंदिरासे भी बढकर है. वह तो अब खुलेआम बोलती है कि मैं तो हिंदुओंके लिये लबारी तो हूंँ, लेकिन मुसलमानोंकी तो भगीनी हूंँ. मैं तो केजरीवालसे भी बढकर हूंँ. ऐसी है ममता, जो आतंकवादी रोहींग्या मुसलमानों बचानेके लिये, न्यायालयके न्यायाधीशोंको और गवर्नर तकको हत्या करवानेकी टपोरीकी भाषामें धमकी दे सकती है, और ऐसी ममता बंगालके चूनावमें जीत भी जाती है, उस बंगालकी नेत्रीसे या बंगालकी जनतासे हम क्या उम्मीद रख सकते है?

तो क्या मुस्लिमोंको निकालने के लिये हमें लश्करी शासन लाना है?

(क्रमशः)

षिरीष मोहनलाल दवे

२०२४में गद्दारोंको हरानेकी व्यूह रचना – २

सामुहिक रुपसे हमारा ध्येय स्पष्ट नहीं

सबसे बडी हमारी समस्या यह ही है कि हम राष्ट्रवादी लोग अधिकतर यह नहीं सोचते कि हमारी चर्चा मीथ्या की दिशामें जा रही है. और हममेंसे कई लोग इस परिस्थितिको समज़ ही नहीं पाते हैँ. और अपनी शक्तिको और समयको बरबाद करते है.हिक 

लुट्येन गेंगवाले अपने ध्येयमें स्पष्ट है कि, मोदीको हरानेके लिये सीवील वॉर, एवं हिंदुओंका विभाजन के अतिरिक्त कोई रास्ता नहीं है. इसलिये वे हिंदुओंको और मुस्लिमोंको-ख्रीस्तीयोंको उकसाना चाहते है. ख्रीस्तीयोंको उकसानेके लिये लुट्येन गेंगवाले लोग, पश्चिमी मीडीयाकी सहायता लेते है. और पश्चिमी मीडीया वाले, उनको यह सहाय देते भी है. मुस्लिमोंको उकसानेके लिये तो भारतके मुस्लिमनेता तयार है. इनके अतिरिक्त, हमारे समीपके मुस्लिम देश के शासकोंके लिये तो, (खास करके पाकिस्तानकी सरकारों के लिये यह) मुस्लिम जनमतको हिंदुओंके विरुद्ध उकसाना एक जनाधार है और उसमें आर्थिक रुपसे चीन उनकी सहायता करता है.

हमारे देशके पथभ्रष्ट मुस्लिम लोग, लुट्येनगेंगवालोंको और आतंकवादीयोंको भरपूर सहायता करते है क्योंकि ये लुट्येन गेंग वालोंका तो एक मात्र ध्येय है कि मोदी को हराना. इससे सरल कोई मार्ग है ही नहीं. क्यों कि “विकास” और “नैतिकता” के मुद्दे पर मोदीको हराना तो उनके बसकी बात नहीं है.

लुट्येन गेंगोका दुसरा ध्येय है कि हिंदुओंको विभाजित करो. हिंदुओंको विभाजित करने के अतिरिक्त और कोई उपाय नहीं है. इसलिये ये लोग दलित, जाट, पटेल, मराठा, नीनामा, यादव, क्षेत्रवादी, भाषावादी, … आदि लोगोंमें जो कमअक्ल , स्वकेंद्री और अज्ञ लोक होते है उनको “तुम्हे अन्याय हुआ है” ऐसे विषय वस्तुको लेकर ब्लोग, लेख, समाचार, … द्वारा, हिंदुओंको विभाजित करते है.

हिंदुओंमे कुछ लोग जो फेंसींग पर बैठे है या कम अक्ल या अज्ञ है या स्वकेंद्री है वे, इनकी जालमें फंस जाते है, और अहंकारके कारण उनको हवा भी देते है.

राष्ट्रवादीयोंको समज़ना चाहिये कि इससे कुछ हिंदु लोग पथभ्रष्ट हो सकते है.

ऐसे हिंदु लोग मतदानसे विमुख रह सकते है. या नोटा (एक भी प्रत्याषी मतके योग्य नहीं है)का बटन दबा सकते है.

इस बातका इस ब्लोगके लेखकका अनुभव है. १९७९ – ८०मे जब जनता पार्टीकी सरकार गीरी, तब मीडीया विश्लेषक लोग, जनता पार्टीके नेतागणकी निंदा के लिये तूट पडे थे.

इसके परिणाम स्वरुप, जो लोग,  इंदिराके आपात्कालमें कारावासमें भी गये थे, वे लोग भी मतदानके लिये नहीं गये थे. इसके कारण भ्रष्ट कोंगी सरकार, फिरसे सत्तारुढ हो गयी थी. और इस कोंगी और उनके सांस्कृतिक सहयोगी पक्षोंने भारतका क्या हाल किया था वह आप सब लोग जानते ही है.

ममताका नया दांव

दलित वर्ग को लक्ष्य बनाना ममताके लिये सरल था. ममताने खुले आम,  दलितोंको डर बताया था कि हम जितेंगे तो तुम लोगोंके उपर खेरात करेंगे. यदि हमारा प्रत्याषी हार गया तो, तुम्हारी खैर नहीं.

दलित वर्ग एक ऐसा हिंदु वर्ग है जो आज भी गरीब है. उनको ये मोदी/बीजेपी विरोधी लोग लक्ष्य बनाते है. ममताको जब पता चला कि दलितोंने उसके पक्षको मत नहीं किया है तो उसने लाखों दलितोंके उपर अत्याचार किया, उनके घरोंको जलाया, उनको उनके  घरोंसे भगाया, उनकी महिलाओं की आबरु को निलाम किया, उनको नग्न करके उनके उपर दुष्कर्म किया. और ये सब रोहींग्या मुसलमानोंसे करवाया. ममताने स्वयंने गवर्नर एवं न्यायाधीश तक को हत्याकी धमकी दी/दिलवायी. ममता समज़ती है कि दलित लोग गरीबीके कारण लड नहीं सकते. और दलितोंको डराना और उनका वॉट लेना सरल कार्य है. और ममताने वह करके दिखाया है. यह प्रणाली अब पूरे भारतमें ये लुट्येन गेंग वाले लोग लागु करेंगे. दलितोंका धर्म परिवर्तन कराना भी सरल कार्य है. दलित लोग न तो न्यायालयका द्वार खटखटा सकते है न तो वे लोग लड सकते है. उनके लिये तो रोटी और जानका सवाल है.

आरएसएस वाले कुछ भी कर नहीं पाये.

यदि आर एस एस वाले प्रतिकारत्मक कार्यवाही करते तो, ल्युट्येन गेंग उनका जीना हराम कर देती. क्यों कि अभी भी न्यायतंत्र, ल्युट्येनगेंग वालोंसे मुक्त नहीं है. आज भी ममता और उनके साथी मुक्तरुपसे घुम रहे है और जी चाहे वह बोलते रहेते है.

एक बडा प्रश्न है.

हमें एक बात सुनिश्चित करना चाहिये कि हमें क्या चाहिये?

हमें मुसलमानोंका क्या करना है?

हमें मुसलमानोंको नेस्त नाबुद करना है?

या

हमें मुसलमानोंको हमारे देशसे भगाना है?

या

हमें मुसलमानोंके साथ रहेना है?

हमें यह भी सोचना है कि हम राष्ट्रवादीयोंकी हिंसा करनेकी ताकत क्या है? हमारे बीजेपी/मोदी सरकारकी ताकत क्या है.

मुसलमान लोग खुले आम धमकी दे कर हजारों हिंदुओंकी हत्याएं कर सकते हैं, अगणित हिंदु महिलाओं पर बलात्कार कर सकते है, सेंकडो हिंदुओंके घर जला सकते है, लाखों हिंदुओंको कश्मिरसे या कहींसे भी भगा सकते हैं. ये सब उन्होंने किया. फिर भी ये कोंगीयोंके, उनके सांस्कृतिक साथीयोंके और न्यायाधीशोंके कानोंमें कभी भी जू तक नहीं रेंगी.

इसके उपरांत मुसलमान लोग, देशमें अनेक केरेना बना सकते है.

और ये हिंदु लोग, कश्मिरकी बात तो छोडो, एक केरेना तक बना नहीं सकते. यह है भारतमें भारतीय मुस्लिमोंकी और घुसणखोर मुस्लिमोंकी ताकत.

ईश्वरकी कृपा मानो कि, उसने नरेंद्र मोदीको और बीजेपीको जिताया. और मुस्लिमोंकी ताकत घट रही है. लेकिन यदि फिरसे लुट्येन गेंग सत्ता में आती है तो लुट्येन गेंगवाले लोगोंकी, मुस्लिमोंकी और ख्रीस्तीयोंकी ताकत असीम बढ सकती है. हमें ईश्वर के भरोसे नहीं रहेना है. ईश्वर उन्हीको मदद करता है जो खुदकी मदद करते है. हर दफा ईश्वर अपने आप, मदद नहीं करता. 

हिंदुओंकी क्या ताकत है?

हिंदु लोग युद्धमें किसी को भी हरा सकते है. हिंदु लोग हमेशा जितते ही आये है. सिकंदर से लेकर अयुब खान तकको हराया है . हिंदु तब हारे है जब भारतस्थित गद्दारोंने दुश्मनोंको साथ दिया . निर्दोष लोगों की हत्या करना आम भारतीय (हिंदुओं) जनमानसका संस्कार नहीं है.

हमें भूल जाना है कि, हम कभी एक हिंदु केरेना भी बना पायेंगे. क्यों कि हिंदुओंकी सांस्कृतिक प्रकृतिकी ऐसी है ही नहीं.

तो राष्ट्रवादीयोंके लिये विकल्प क्या है?

विकल्प है भी या नहीं?

जी हांँ , विकल्प है और वह विकल्प सुचारु भी है. हमें हम पर आत्मविश्वास होना चाहिये.

वह कैसे?

(क्रमशः)

शिरीष मोहनलाल दवे

२०२४में गद्दारोंको हरानेकी व्यूह रचना – १

गद्दरोंको हराना है तो गद्दारोंको पहेचानना पडेगा.

गद्दार (देश द्रोही) को कैसे पहेचाना जाय?

गद्दारकी एततकालिन प्रवर्तमान परिभाषा तो यही होना चाहिये कि जो अपने स्वार्थके लिये भारतवर्षका अहित करने पर काया और वाचासे प्रत्यक्ष या परोक्ष रुपसे प्रवृत्त है, वह गद्दार है.

गद्दारका परोक्ष रुप क्या है?

हिंदुओंको कैसे भी करके विभाजित करना जैसे कि, विचार, ज्ञाति, क्षेत्र, भाषा, लिपि, जूठ, वितंडावाद (कुतर्क) , फर्जी वर्णन (false and prejudicial narratives), … ब्लोगका हिन्दु विरोधी, बीजेपी नेता विरोधी अयोग्य और विवादास्पद शिर्षक बनाना …

किंतु पता कैसे चले कि फलां फलां शिर्षक या विषय अयोग्य है?

जी हांँ … सही विषय, सही वर्णन, सही शिर्षक, आदि का चयन करना सरल नहीं है . लेकिन एक बार विचार कर लेना कि हमारे कथनका क्या असर पडनेवाला है. हमारे कथनसे हिंदुओंका कोई एक वर्ग अपमानित तो नहीं होनेवाला है न!!

कौन हिंदु है?

जो व्यक्ति समज़ता है कि मेरा धर्म (कर्तव्य) “मेरा देश भारतका हित सर्व प्रथम” है वह हिंदु है. भारतवर्ष से प्रथम अर्थ है प्रवर्तमान १९४७का सीमा-चिन्हित भारत. मेरा भारत वह भी है जो वायु-पुराण (वायुपुराण क्यों? क्यों कि वह पुराणोमें सबसे प्राचीन है) में भूवनविन्यासके अध्यायोंमें उसका वर्णन किया हुआ है. वह है भारतीय संस्कृतिका विस्तार. अर्थात जंबुद्वीप.

भारतीय संस्कृतिसे क्या अर्थ है?

मानव समाजको उन्नति की दीशामें ले जानेवाली विचारधाराका आदर और ऋषियों द्वारा पुरस्कृत या प्रमाणित आचारधारा का कार्यान्वयन (Execution).

सनातन धर्ममें वर्णित विचार धाराएं प्रति आदर, वेद उपनिषद, गीता, जैन, बौद्ध, ब्राह्मण (ब्रह्मसे उत्पन्न ब्रह्म स्वरुप ब्राह्मण यानी महः देवः यानी अग्नि यानी रुद्र यानी विश्वदेव यानी विश्वमूर्त्ति यानी उसका प्रतिकात्मक रुप शिव और शक्ति यानी पुरुष-प्रकृति यानी तात्त्विक रुपसे वैश्विक परिबलोंके साथ ऐक्यकी साधना. शक्ति – सूर्य- पंचमहाभूत … अद्वैतवाद.

ज्ञान, शौर्य, कर्म और कला मेंसे किसी एकके प्रति अभिरुचि द्वारा आनंद प्राप्ति. अपनी खुशीके लिये किसीको कष्ट न पहोंचे उसका खयाल रखना. और इस तरह समाजको समयानुरुपसे उत्तरोत्तर विकसित करना. कटूता विहीन तर्कशुद्ध संवाद, यह है सनातन धर्म जो प्रकृतिको साथमें रखके अहिंसक (कमसे कम हिंसक) समाज के प्रति गति करता है. कायरता और हिंसाके बीचमें यदि चयन करना है तो हिंसाका चयन करना है.

वेद और पुराण के दो श्लोक हमे कहेते हैं कि,

मा नः स्त्येनः ईशतः (हम पर चोरोंका शासन न ह. ऋगवेद).

इससे स्पष्ट होता है कि जो अगणित कौभांडकारी कोंगी, माफिया मुल्लायम, चाराचोर लालु, रीलीफ फंडमें कौभांड, शारधा, नारदा … आदि कौभांडमें सहभागी एवं आतंकवादी ममता, उद्धव सेना, शरद सेना, … के शासनका हमें विरोध करना है और नष्ट करना है.

आत्मनः प्रतिकुलानि परेषां न समाचरेत. (जो हमारे लिये प्रतिकुल है वह दुसरोंके उपर न थोपें. कूर्म पुराण)

ममताने हजारों हिंदुओंकी ह्त्या की, और एक लाख हिंदुओंको उनके घर जलाके भगा दिया. कारण केवल यही था कि उन हिंदुओंने ममताके पक्षको मत नहीं दिया था. इसके लिये ममताको जितना भी दंडित किया जाय, वह कम ही है.

आम जनता यानी कि, हम, जो स्वयंको राष्ट्रवादीमानती है उनका क्या धर्म है?

(१) लोकतत्र वाले देशमें जनताको जागृत करना और राष्ट्रवादी नेताओंके लिये हकारात्मक वातावरण तयार करना,

(२) राष्ट्रविरोधी तत्त्वोके उपर सातत्य पूर्वक उनकी क्षतियोंके उपर और दुराचारोंके उपर आक्रमण करना,

(३) राष्ट्रवादी नेताओंकी तथा कथित क्षतियोंको गुह्य रखना. या उन चर्चाओंमे मोड ला देना यानी कि विषयांतर कर देना,

(४) अप्रासंगिक और मृत विषयों पर चर्चा नहीं करना,

(५) हमारे ध्येयमें हमें स्पष्ट होना, और हमारा हर कदम हमारे ध्येय की दिशामें होना आवश्यक है.

सबसे बडी हमारी समस्या यह ही है कि हम राष्ट्रवादी लोग अधिकतर यह नहीं सोचते कि हमारी चर्चा मीथ्या की दिशामें जा रही है. और हममेंसे कई लोग इस परिस्थिति समज़ नहीं पाते हैँ. और अपनी शक्तिको और समयको बरबाद करते है.

चलो इसको समज़ें

(क्रमशः)

शिरीष मोहनलाल दवे

नकलीको असली कहो और ध्वस्त करो – ५

यदि आप देश प्रेमी और राष्ट्र वादी है तो आपका कर्तव्य क्या है?

आपको एक बात समज़ना चाहिये की कोंगी,जिसको, कुछ लोग अज्ञानतावश और तर्कहीनता (राजकीय पक्षकी परिभाषा समज़नेका अभाव) के कारण “कोंग्रेस” कहेते है. उनकी यह बात जो लोग जनतंत्रकी परिभाषा और पक्षकी परिभाषा समज़ते है उनके लिये अस्विकार्य है. हमारा इस ब्लोगका विषय वह नहीं है. इसलिये हम इसकी चर्चा करेंगे नहीं.

हमें “कोंगी मानसिकता” समज़ना चाहिये कि कोंगी (कोंग्रेस) कोई भी हथकंडे अपना सकती है. जो पक्ष खुले आम कोमवादी आचरण करता है एवं खुले आम देशद्रोही आचरण करता है वह पक्ष हिंदुओंका विभाजन, हर मुद्दे पर कर ही सकता है.

कोंगीकी रणनीतिका यह एक अविभाज्य अंग है कि गांधीजीके सिद्धांतोंका खून तो हमने बार बार किया और करते रहेंगे, किंतु हमें गांधीजीकी निंदा भी करवाना है और उसको फैलाना भी है. कोंगीयोंको मालुम है कि गांधीजी एक महात्मा थे और उसके लाखों चाहनेवाले मध्यम स्तरके ज्ञानी और अज्ञानी दोनों है. इनमें विभाजन करना शक्य है. क्यों कि मूर्खता कोई कोम्युनीटीकी मोनोपोली नहीं है. यह काम हम दुसरोंसे करवायेंगे.

कुछ लोग इस बातको समज़ नहीं सकते है. भारतमें इस परिस्थितिका होना एक विडंबना है और अफसोस की बात है.

नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार यह बात समज़ती है. लेकिन कुछ लोगोंको यह बात हजम नहीं होती है. इससे देशको अवश्य हानि हो सकती है.

कोंगीयोंकी लुट्येन गेंगके लिये कोई भी निंदास्पद व्यवहार असंभव नहीं है. उनके अधिकतर मतदाता अटल है.

यह बात समज़ लो, कोंगीने राक्षस होनेके नाते, जब भी कोंगीके उपर प्रहार पडता है तो जो रक्तबिंदुएं धरती पडते है उनमेंसे और राक्षस पैदा होते है.

इसका आरंभ राक्षस नहेरुसे हुआ है. उसके बीज राक्षस नहेरुने ही १९४६में बोयें थे.

“किसीभी राज्यकी समितिने पक्ष प्रमुखके पद पर नहेरुके नामका प्रस्ताव पास किया नहीं है” ये समाचार जब गांधीजीने उस मानवरुपधारी, राक्षस नहेरुको बताया, तब नहेरुने अपना पक्ष-प्रमुख बनने का आवेदन वापस नहीं लिया. यदि नहेरु जनतंत्रवादी होते तो उनका कर्तव्य था कि वे अपना आवेदन वापस लेेले. नहेरु मौन रहे. वे अन्यमनस्क मूंँह बनाके वहांसे निकल गये. इस राक्षसके मनमें क्या था, वह गांधीजीने भांप लिया कि नहेरु कोई साहस करनेवाले है.

उस समयकी परिस्थिति को याद करो. केबीनेट मीशन देशका विभाजन करने पर तुला था. पाकिस्तान, खालिस्तान, दलितस्तान, द्रवीडीस्तान … की मांगे तो थी ही. उस समयकी कोंग्रेसका प्रयास था कि भारतका विभाजन कमसे कम हो.

नहेरुको तो हर हालतमें प्रधान मंत्री बनना ही था.

भारतकी संस्कृतिमें राक्षसका अर्थ क्या है? प्राचीन अर्थ भीन्न है. लेकिन प्रचलित अर्थ यह है कि जो स्वार्थके लिये यज्ञ (कर्म) करता है वह राक्षस है. जो विश्व हितमें यज्ञ करता है वह मानव है. जब स्वार्थ ही ध्येय है, तो जूठ तो बोलना ही पडेगा … सत्यको गुह्य रखना पडेगा … प्रपंच करना पडेगा … माया फैलानी पडेगी…

नहेरुने प्रारंभसे ही कोंग्रेसके भीतर एक समाजवादी-गुट बनाके रक्खा था. समाजवादी होना एक फैशन था. जैसे आजके युवाओमें दाढी रखनेका फैशन ३/४ सालसे चलता है. राक्षस नहेरुकी एक माया थी कि वे नौटंकी करनेके उस्ताद थे. इसलिये नहेरु (सुभाषचंद्रके अभावमें) जनतामें काफि लोकप्रिय थे.

यदि कोंग्रेसका विभाजन उस समय होता तो कोंग्रेस, केबीनेट मीशनके साथ सियासती परिसंवादमें अवश्य कमजोर बनती. नहेरु कमसे कम, उत्तरांचल राष्ट्र के प्रधान मंत्री बनते. देशी राज्योंके कई राजा भी अपना स्वतंत्र राष्ट्र मांगते ही थे. ऐसी परिस्थिति बननेका संभव था. गांधीजी ऐसा साहस करना नहीं चाहते थे. गांधीजीने सरदारसे वचन ले लिया कि सरदार पटेल ऐसी हालतमें कोंग्रेसको तूटने नहीं देंगे. सरदार पटेलने वचन दिया भी.

गांधीजीको मालुम था कि, लोकशाहीमें कोई भी व्यक्ति (जबतक सूरज-चांद रहे तब तक) कोई होद्दा पर आजीवन तक रह नहीं सकता. व्यक्तिको चूनावसे गुजरना पडता है.

गांधीजीको यह भी मालुम था, कि नहेरु मायावी है. और वे कुछ भी कर सकते है. स्वतंत्रता मिलनेके बाद इसीलिये गांधीजीने कोंग्रेसका विलय करनेको कहा. क्यों कि गांधीजी जानते थे कि नहेरु नौटंकी बाज है, और सत्ताके लिये कुछ भी कर सकते है. वैसे तो १९४८में सरदार पटेल का कद असीम बढ गया था. लेकिन वे आमचूनाव तक जिंदा नहीं रह पाये. यदि वे जिंदा रहेते तो १९५२के बाद, भारतके विकास का एक भीन्न स्वरुप होता.

नहेरुने अगणित गोलमाल करके और जूठकी दुकान खोलके कई जगह पर जीते हुए प्रत्याशी को हरा दिया. चूनाव की प्रणाली ही अपार क्षतियुक्त थी.

क्या करें?

नहेरुकी टीमके सदस्य नहेरु जैसे बुरे नहीं थे. नहेरु ही अपने पोर्टफोलीयोमें विफल रहे लेकिन अन्य मंत्रीयोंने अच्छा काम किया. नहेरुने विदेशनीतिमें अपने आर्षदृष्टिके अभावके कारण और वैचारिक धूनके कारण असीम गलतियां की जो आज भी देश भूगत रहा है.

लेकिन कोंगी राक्षसोंकी माया अपार है.

इन मायामें हमारी कई बुआएं और चाचूएं फंसे हुए है. वे नहेरुसे कहीं अधिक गांधीजीकी निंदा करते है. क्यों कि गांधीजी तो मर गये है.

नहेरुवीयन तो जिंदा है. उनके सहायक राक्षसोंने (जैसे कि ममता, शरद, उद्धव, केज्री, मुल्लायम, अखिलेश, फारुख, ओमर, डिएमके, एडीएमके के राक्षस, सीपीआईएमके राक्षसोंने … आदि अगणित नेताओंने) अपने विरोधीयोंका (जैसे कि साध्वी प्रज्ञा, बाबा रामदेव, अमित शाह, अर्णव गोस्वामी, कंगना रणोत, ममताको वोट न देनेवाले हजारों दलितोंका) क्या हाल किया था वह तो उनको मालुम ही है.

इसलिये ये चाचूएं और बुआएं, प्रवर्तमान समस्याओंमें इन राक्षसोंकी बुराई करनेका छोड कर, गांधीजीकी बुराई करनेमें व्यस्त रहेतीं हैं. हमारा नाम “देशभक्तोंकी लीस्ट”में होना आवश्यक है इसलिये नहेरुकी भी थोडी बहोत बुराई कर लेते है, लेकिन अधिकतर बुराई, मुघल, तैमूर, अल्लाउदीन, मोहम्मद तघलख, मोहम्मद घोरी, … इस्लाम, कुरान, शरीयत … आदि की बुराई करते रहेंगें. इससे मुस्लिम मतका धृवीकरण होता है. कोंगीयोंको और उनके साथीयोंको यही तो चाहिये.

तर्क शुद्धता और चर्चा किस बलाका नाम है?

शिरीष मोहनलाल दवे

नकलीको असली कहो और ध्वस्त करो – ४

(१) हमने पहेले ही देख लिया है कि कुछ लोग “एम. के. गांधीजीकी बुराई करनेमें क्यों सक्रीय है?

अधिकतर किस्सोंमे जो वीडीयो-लेख प्रस्तूत करनेवाले होते हैं उनको यह देखाना है कि वे किस सीमा तक निडर राष्ट्रवादी है कि वे, अपना राष्ट्रवादत्त्व दिखानेके लिये गांधीजी तकको छोडते नहीं है. इन लोगोंके अनुयायी लोग, गांधीजी के लिये जो भी गाली याद आयी उस गालीको कोमेंटमें लिख देते है.

(२) गांधीजीकी बुराई करनेमें बुराई क्या है?

गांधीजीकी निंदा करनेमें कोई बुराई नहीं है, यदि यह चर्चा तर्कशुद्ध और ज्ञानवर्धक हो. लेकिन ऐसा कभी भी होता नहीं है. एक फर्जी बात करो, वाणी विलासवाला विवरण दो, जूठ को ही सच मानके चलो, और उस फरेबी सचसे गांधीजीके व्यक्तित्त्वको ध्वस्त कर दो.

जैसे कि; गांधीजीके रामको पुतला वाला राम कहेना , गांधीजीका भगत सिंह के प्रति द्वेष था ऐसा मान लेना, गांधीजीका सुभाष के प्रति द्वेष था ऐसा मान लेना, गांधीजीकी मुस्लिमोंके प्रति तुष्टिकरणकी नीति थी ऐसा मान लेना, … गांधीजीकी अहिंसा फरेबी थी ऐसा मानना, गांधीजीने देशको तोडा ऐसा मानना, गांधीजी तो अंग्रेजोंके पालतु कुत्ते थे ऐसा मानना, एकाधिकारवादी गांधीजीने नहेरुको कोंग्रेसका प्रमुख बनाया …. ऐसी तो कई बातें है, जिनसे गांधीजीको मरणोत्तर गालीयां मिलती रहेतीं हैं.

लेकिन यदि कोई गांधीजी प्रति आदर करनेवाला, प्रश्न करें और चर्चाका आहवाहन करें, तो ये लोग उसके उपर गाली प्रहार करेंगे, यदि चर्चामें उतरे तो मुद्दे बदलते रहेते हैं, असंबद्ध बातें करेंगे, … एक वीडीयो या/और पुस्तककी लींक देके चर्चासे भाग जायेंगे. यदि उनकी तबियत गुदगुदाई तो दो तीन गालीयां भी दे देंगे.

(३) गांधीजीकी बुराई करने वाले है कौन?

गांधीजीकी बुराई करनेवाले लोग कोंगी और उसके सांस्कृतिक साथी है.

कोंगीयोंने पहेलेसे ही सत्ताके लिये लोगोंको विभाजित करनेका काम करते रहे हैं.

मुस्लिमोंको तो एक बाजु पर छोड दो.

(३.१) हिंदुओंकोभी विभाजित करनेका काम कोंगीयोंने ही किया है.

सत्ताके लिये कोंगीने शिवसेना की स्थापना की थी.

(३.२) कोंगीयोंने मुस्लिम तुष्टीकरणके लिये साध्वी प्रज्ञाका क्या हाल किया था?

हिंदुओंको भगवा आतंकवादी सिद्ध करनेके लिये बंबई ब्लास्टकी घटनाको, हिंदुओ पर ठोक देनेके लिये, एक कोंगीनेताने एक पुस्तक लिख दी थी.

(३.३) ममता, बीन बंगालीयोंको बाहरी बताती है, वह दलित हिंदु औरतोंपर अत्याचार करवाती है और उनके घर जला देती है, उतना ही नहीं हिंदुओंको राज्यसे बाहर खदेड देती है. ममता फिर मीट्टीका मानुस का गीत गाती है.

(३.४) महाराष्ट्रका नेता मराठाओंको अन्यसे अलग करवाता है, और माराठाओंको आरक्षण दिलानेके लिये आंदोलन करते हैं.

(३.५) आपको कोंगीकी लुट्येन गेंगमें अब, काका कालेलकर जैसा सवाई गुजराती नेता ढूंढने पर भी नहीं मिलेगा. सौराष्ट्रके झवेरचंद मेघाणी शिवाजीके गुणगान वाली कविता रचते थे.

(३.६) गुजराती और मराठी जनता हिलमिलकर रहेती थीं. नहेरुने मराठी-गुजरातीमे विभाजन १९५६में किया.

(३.७) कर्नाटकमें कोंगी, “लिंगायत”को (जो शिवके उपासक है) उनको अल्पसंख्यकका दरज्जा देना चाहती है. यदि शिव ही हिंदु धर्ममेंसे निकल गये तो हिंदुधर्ममें बचा क्या?

(३.८) गुजरातका एक कोंगी पटेल नेता पाटीदारोंके आरक्षण के लिये आंदोलन चलाता है.

(३.९) जब कोंगीयोंकी सत्तामें हिस्सेधारी होती है तब वे विपक्षीनेताओं पर बेबुनियाद आरोप और फर्जी केस चलाते थे. रामलीला मैदानमें बाबा रामदेवके अहिंसक आंदोलन पर आधी रातको आक्रमण करवाया. अहिंसक आंदोलनकारी लोगोंको पीटा गया. ऐसे तो अगणित घटनाएं हैं.

(३.१०) भारतमें लोकशाहीमूल्योंका हनन कोंगी शासित राज्योंमें होता है.

(४) दलितोंको वोटके लिये टार्जेट करना, एक नया तरिका ममताने निकाला है.

(४.१) वोट न देनेके कारण, दलितों के प्रति ममताका रुख कैसा रहा? ममता, इन दलितोंको अपने घरमें वापस आने के लिये दलितोंसे पैसे मांगती है.

(४.२) दलित लोग गरीब है और वे प्रतिकार नहीं सकते, न तो वे न्यायालयमें जा सकते है. पूलिस तो ममताके आधिन है. इस लिये ममताने दलितों पर ही आक्रमण करवाया, यह एक ल्युट्येन गेंगकी नयी खतनाक चाल है.

(४.३) सरकारी अफसरोंको और न्यायाधीशोंको धमकी देना कि “आप भी तो निवृत्त होनेवाले है, फिर आपका क्या हाल होगा वह सोच लो.” गवर्नरको बोला जाता है कि “दिल्ली जाते हो तो वापस मत आना”.

जनतंत्रको अवहेलना करने की मनमानी करनेकी इससे अच्छी मिसाल विश्वमें कहीं नहीं मिलेगी.

ग़ांधीजीकी बुराई करनेवालोंको यह सब नहीं दिखाई देता है.

(५) गांधीजीकी निंदा करने वाले प्रच्छन्नरुपसे कोंगीके हितैषी है.

(५.१) जाति-वर्ण के आधार पर भी विभाजित किया आ सकता है. भाषा और क्षेत्रके आधार पर भी विभाजित किया जा सकता है.

(५.२) कोंगी लोग यह भी समज़ते है कि हिंदुओंको गांधीके नाम पर भी विभाजित किया जा सकता है.

(५.३) एक फर्जी नेरेटीव्ज़ चलाया गया है कि गांधीजीने ही नहेरुको गद्दी पर बैठाया और इस नहेरुके कारण देशकी यह दुर्दशा हुई. तो अब नहेरुको और नहेरुवीयनोंको बाजु पर रख दो, और गांधीके उपर ही तूट पडो.

आप पूछोगे लेकिन इससे क्या होगा?

(५.४) कोंगी समज़ती है कि वैसे तो आर. एस. एस. के कुछ अज्ञ लोग उनको गांधीजीकी हत्यासे कुछ भी लेना देना नहीं है, तो भी “आर. एस. एस.”वाले कुछ लोग तो मैदानमें उतर आयेंगे और गांधी-निंदाको सपोर्ट करेंगे. कमसे कम गांधीको एक गाली देके अपना फर्ज निभाया ऐसा मानेंगे.

आप कहोगे कि; “आर. एस. एस.”का गांधीकी हत्यासे लेना देना क्यों नहीं है?

अरे भैया, गांधीजीकी हत्या करनेवाला आर.एस.एस. का सदस्य था ही नहीं. वह तो हिंदु महा सभा का सदस्य था.

“तो फिर “आर.एस.एस.” वाले क्य़ूंँ कूद पडते है?

क्यूंँ कि आर.एस.एस.” पर राहुल गांधी आरोप लगाता है कि “आर.एस.एस.” वाले गोडसे वाले है. यदि जब राहुल गांधी जैसा, महामानव, आरोप लगाता है तो उसका आदर तो करना पडेगा ही न. राहुल गांधी कौई ऐसा वैसा आदमी थोडा ही है?

(६) गांधीजी की निंदा करनेमें कौन कौन प्रकारके लोग है ?

गांधीजीकी निंदा करनेमें ऐसे लोग है जो अपनेको सुज्ञ मानते है लेकिन वे लोग गांधी-साहित्य को पढनेका कष्ट उठाना चाहते नहीं है.

ये छोटा मोटा पदधारक, विश्लेषक … होने के कारण लिखते रहेना / बोलते रहेना उनका व्यवसाय है. क्या करें ख्याति भी तो कोई चीज़ है!! यदि हम तर्कशुद्ध नहीं बोलते तो क्या हुआ? कौन तर्क शुद्ध बोलता है? बीबीसी ? न्यु योर्क टाईम्स?

वे समज़ते है कि मौका मिला है तो लिख ही दो. अनुपद्रवी लिखनेके बदलेमें उपद्रवी लिखनेेसे अधिक लाईक और कोमेंट मिलती है. आपने देखा नहीं क्या, कि आचार्य रजनीश, अकबरुद्दीन औवैसी, राहुल गांधी, सोनिया गांधी, िप्रयंका वांईदरा, टीकैत, अखिलेश, एमएमएस, नवाब मलिक, ममता, केज्री … आदि लोग उपद्रव कारी नहीं बोलते तो उनकी पहेचान कैसे बनती?

(७) गांधीजीकी निंदा करनेसे फायदा किसको होगा?

(७.१) गांधीजीकी निंदा करनेसे ल्युटेन गेंगोंको (यानी कि, बीजेपीके विरोधीयोंको) फायदा होगा.

क्यूंँ कि  काफि अज्ञ हिंदु  लोग मानते है कि गांधीकी निंदा करना वह नहेरुकी निंदा करना ही है. (वैसे तो नहेरु और गांधीके बीच आकाश पाताल का भेद है. लेकिन पढना किसको है? समज़ना किसको है?).

(७.२) नरेंद्र मोदीने गांधीजीको पढा है. लेकिन ये अज्ञ लोग शुक्र करो कि, नरेंद्र मोदीको गांधीजीके संबंधमें गालीयां देते नहीं है. क्यूंँ कि तब तो वे एक्सपोज़ हो जायेंगे कि वे प्रो-कोंगी है.

(७.३) कुछ सियासत से अज्ञ लोग है, लेकिन वे गांधीको तो जानते है और उनके उपर श्रद्धा रखनेवाले है, ये लोग समज़ेंगे कि गांधी-निंदक (वे इनको आरएसएस वाले) तो जूठ बोलते है और विश्वसनीय नहीं है. इसलिये बीजेपी भी विश्वसनीय नहीं है.

(७.४) आम जनतामें भी ऐसे लोग है, जो लोग द्विधामें पड जाते है. वे ऐसा समज़ने लगते है कि सियासतमें सभी लोग एकसे होते है.

इससे क्या होता है?

(७.५) ये लोग “नोटा” बटन दबाते हैं, या वॉट देनेको ही नहीं जाते है.

(७.६) कई सारे लोग उपरोक्त द्विधाके कारण वॉट देनेको जाते नहीं है.

(८) इस बातको हमेशा याद रक्खो कि;

(८.१) राष्ट्रवादीओं द्वारा वॉटके लिये जाना नहीं, गद्दारोंको वोट देने के बराबर है.

(८.२) राष्ट्रवादीओं द्वारा बीजेपीको वोट नहीं देना या “नोटा” बटन दबाना, गद्दारोंको वॉट देनेके बराबर है.

(९ ) ओ! गांधीजीकी निंदा करनेवाले महानुभाव लोग, यदि तनिक भी समज़दारी भी है तो समज़ जाओ. युद्ध केवल शस्त्रोंसे जिता जाता नहीं है. व्युहरचना भी करना पडता है.

आप कमसे कम गद्दारोंकी व्युह रचनामें मत फंसो.

(९.१) जितना फर्क आर.एस.एस. और आई. एस. आई. एस. में है, उनसे कहीं अधिक फर्क गांधीजी और नहेरुमें है. इस विषय पर एक पुस्तक भी उपलब्ध है.

(९.२) कोंग्रेसका विलय करो यही गांधीका अंतिम आदेश था.

एम. के. गांधीकी निंदा करनेमें और करानेमें कोंगीयोंका ध्येय क्या है?

गांधीजीकी बुराई करने के फलस्वरुप क्या परिणाम आने वाले है?

गांधीजीकी बुराई करनेमें भयंकर बात क्या है?

यदि आप देश प्रेमी और राष्ट्र वादी है तो आपका फर्ज धर्म क्या है.

गांधीजीकी निंदा करना और उसको फैलाना, यह बात कोई व्यूह रचना का भाग हो सकता है क्या?

कोंगीयोंकी लुट्येन गेंगके लिये कोई भी निंदास्पद व्यवहार असंभव नहीं.

(क्रमशः)

शिरीष मोहनलाल दवे

%d bloggers like this: